नई दिल्ली: कांग्रेस ने संसद में पिछले तीन दिन से चले आ रहे गतिरोध के बीच बुधवार को कहा कि जब तक सरकार दिल्ली हिंसा पर चर्चा शुरू नहीं कराती तब तक कार्यवाही चलने नहीं दी जाएगी. पार्टी प्रवक्ता सैयद नासिर हुसैन ने संसद परिसर में संवाददाताओं से कहा, ‘‘ विपक्षी दल सदन के भीतर और बाहर मांग कर रहा है कि चर्चा होना चाहिए. न तो गृह मंत्री जवाब देने के लिए तैयार हैं और न ही प्रधानमंत्री जवाब देने के लिए तैयार हैं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘सरकार सदन के भीतर कह रही है कि जब तक स्थिति सामान्य नहीं हो जाती, चर्चा नहीं करेंगे. Also Read - 5,000 के पार पहुंची कोविड-19 से मरने वालों की संख्या, कल से शुरू होगा लॉकडाउन से निकलने का पहला चरण

लेकिन सदन से बाहर वे कहते हैं कि स्थिति सामान्य है. इन दोनों में क्या सच है.’’ हुसैन ने कहा, ‘‘विपक्षी दलों में सहमति है कि जब तक दिल्ली के मामले पर संसद में चर्चा शुरू नहीं होगी तब तक हम सदन नहीं चलने देंगे.’’ दरअसल, लोकसभा और राज्यसभा में दिल्ली हिंसा पर जल्द चर्चा कराने की मांग कर रहे विपक्षी सदस्यों के भारी शोर-शराबे के कारण बुधवार को लगातार तीसरे दिन दोनों सदनों में गतिरोध कायम रहा. लोकसभा को दो बार के स्थगन के बाद तथा राज्यसभा को बैठक शुरू होने के कुछ ही मिनट बाद पूरे दिन के लिए स्थगित कर दिया गया. Also Read - पश्चिम बंगाल में और छूट और शर्तों के साथ लॉकडाउन की अवधि 15 जून तक बढ़ाई गई

वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं एवं सांसदों का एक प्रतिनिधिमंडल बुधवार को दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों का दौरा करेगा. सूत्रों ने यह जानकारी दी है. पार्टी सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी इस प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर सकते हैं, हालांकि इसकी आधिकारिक रूप से पुष्टि नहीं हुई है. उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में पिछले दिनों भड़की हिंसा में 40 से अधिक लोगों की मौत हो गई और 200 से ज्यादा लोग घायल हो गए. Also Read - Mann Ki Baat: मोदी सरकार 2.0 की पहली वर्षगांठ के एक दिन बाद 'मन की बात' करेंगे पीएम