हैदराबादः आंध्र प्रदेश में सत्ताधारी तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के साथ गठबंधन को लेकर जारी कयासों पर विराम लगाते हुए कांग्रेस पार्टी ने स्पष्ट किया है कि वह राज्य में अपने दम पर लोकसभा और विधानसभा चुनाव लड़ेगी. रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व को स्थानीय नेताओं से फीडबैक मिला है कि प्रदेश की जनता यह मानती है कि केवल कांग्रेस पार्टी ही राज्य को विशेष राज्य का दर्जा दिलवा सकती है. प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष एन. रघुवीरा ने बुधवार को विजयवाड़ा में मीडिया से बातचीत में ये बात कही.

उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश की जनता इस बात पर भरोसा करती है कि एपी स्टेट रिऑर्गनाइजेशन एक्ट 2014 के तहत किए गए वादों को तभी पूरा किया जा सकता है जब राहुल गांधी प्रधानमंत्री बने. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी राज्य में किसी भी दूसरे दल से गठबंधन नहीं करेगी. वह राज्य की सभी 175 विधानसभा और 25 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगी. उन्होंने बताया कि कांग्रेस के महासचिव ओमेन चांडी, जो राज्य के प्रभारी हैं, ने इस फैसले से प्रदेश कांग्रेस को अवगत कराया है.

गौरतलब है कि टीडीपी अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा के खिलाफ एक गठबंधन बनाना चाहते हैं. इस संदर्भ में वह पिछले दिनों कई क्षेत्रीय दलों के नेताओं से भी मिले थे. वैसे दोनों दलों ने पिछले दिनों हुए तेलंगाना चुनाव में गठबंधन किया था, लेकिन वहां की कुल 119 सीटों में से 88 पर विपक्षी तेलंगाना राष्ट्र समिति की जीत हुई. ऐसी भी रिपोर्ट आ रही थी कि टीडीपी तेलंगाना के अनुभव से सीख लेते हुए आंध्र में गठबंधन से बचेगी.