बेंगलुरू: मैसूर राज्य के 18वीं सदी के शासक टीपू सुल्तान के नाम पर ‘हज भवन’ का नाम बदलने की योजना पर जारी विवाद के बीच भाजपा नेता केजी बोपैया ने कहा कि उनकी पार्टी इस भवन का नाम दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति एपी जे अब्दुल कलाम के नाम पर रखना चाहती है. Also Read - Bihar Assembly Election 2020: भाजपा के मेनिफेस्टो पर मचा बवाल, तो BJP ने किया पलटवार

Also Read - बिहार: कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय से 8 लाख रुपए बरामद, इनकम टैक्स अफसरों ने रणदीप सिंह सुरजेवाला से की पूछताछ

बोपैया ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा सहित हमारी पार्टी के नेता चाहते हैं कि हज भवन का नाम टीपू सुल्तान की बजाए पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलामजी के नाम पर रखा जाना चाहिए. पूर्व विधानसभा अध्यक्ष बोपैया ने आशंका जताई कि अगर कर्नाटक सरकार टीपू सुल्तान के नाम पर हज भवन का नाम रखती है तो इससे पूरे राज्य में सांप्रदायिक सद्भाव बिगड़ सकता है. बता दें कि अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ मंत्री बी जेड जमीर अहमद खान के 22 जून को दिए गए बयान पर भाजपा नेता प्रतक्रिया दे रहे थे. Also Read - बिहार में मुफ्त वैक्सीन बांटने के वादे पर राहुल गांधी का बीजेपी पर हमला, RJD बोली- इसमें भी चुनावी सौदेबाजी, छी-छी

यूपी में शौहरों से तंग आ चुकी दो औरतों ने ‘तलाक-ए-तफ़वीज़’ के जरिये पाया छुटकारा

हज भवन का नाम बदलकर ‘हजरत टीपू सुल्तान हज घर’ करने की तैयारी

बी जेड जमीर अहमद खान ने कहा था कि वह मुख्यमंत्री के साथ हज भवन का नाम बदलकर ‘हजरत टीपू सुल्तान हज घर’ करने की मांग पर चर्चा करेंगे. भाजपा हज भवन का नाम बदलने की योजना का विरोध करते हुए कह रही है कि यह इमारत पूरे मुस्लिम समुदाय के लिए है न कि सिर्फ टीपू के अनुयायियों के लिए है. वरिष्ठ भाजपा नेता और पूर्व उप मुख्यमंत्री आर अशोक ने कहा था कि हज भवन येदियुरप्पा सरकार की विकास परियोजनाओं का हिस्सा था और कांग्रेस सरकार अब इसे टीपू सुल्तान के नाम पर रखकर अपनी उपलब्धि बताने की कोशिश कर रही है. (इनपुट एजेंंसी)