नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री समूह की शनिवार को हुई बैठक में कोरोना जांच को लेकर बड़ा फैसला लिया गया है. स्वास्थ्य मंत्रालय में हुई बैठक में सभी मंत्रियों ने इस बात को स्वीकार किया कि कोविड-19 को लेकर सरकार ने जो कदम उठाए हैं उनके सकारात्मक परिणाम दिखाई दे रहे हैं. Also Read - कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भूमि पेडनेकर ने किया लोगों से ये अपील, बिग बी, अक्षय ने भी बढ़ाया हाथ  

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बैठक में इस बात पर सहमति हुई कि देश में COVID19 की स्थिति नियंत्रण में है और सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं. बैठक में ये भी कहा गया कि जब स्थिति नियंत्रण में है तो ऐसे में रैपिड टेस्ट किट का उपयोग अभी के लिए स्थगित कर दिया गया है. Also Read - Coronavirus in Indore News: हॉटस्पॉट इंदौर में संक्रमितों की संख्या 3,600 के पार, अब तक 145 मरीजों की मौत

सरकारी अधिकारियों ने महामारी के ‘‘नियंत्रण में होने’’ का श्रेय लॉकडाउन और मजबूत निगरानी नेटवर्क तथा विभिन्न नियंत्रण कदमों को दिया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च को राष्ट्र के नाम संबोधन में लॉकडाउन की घोषणा की थी.

बता दें कि ये फैसला ऐसे समय में आया है जब देश में कोरोना वायरस के मामलों में शुक्रवार को 1,750 से अधिक की वृद्धि हुई जो भारत में अब तक एक दिन में सामने आए सर्वाधिक मामले हैं. हालांकि वहीं, सरकार ने कहा कि महामारी का प्रकोप नियंत्रण में है और यदि राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लागू न किया जाता तो संक्रमण के मामलों की संख्या अब तक एक लाख तक पहुंच चुकी होती.

आज हुई इस बैठक में स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन, स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे, विदेश मंत्री एस जयंशकर,  नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी और अन्य अधिकारियों ने हिस्सा लिया.