नई दिल्ली: भारत में अभी तक कोरोनावायरस (Corona Virus) के 73 मामलों की पुष्टि हुई है. कोरोना अब तक देश के 12 राज्यों में फैल चुका है. दिल्ली में 6, हरियाणा में 14, केरला में 17, राजस्थान में 3, तेलंगाना में 1, उत्तर प्रदेश में 11, लद्दाख में 3, तमिलनाडु में 1, जम्मू कश्मीर में 1, पंजाब में 1, कर्नाटक में 4, महाराष्ट्र में 11 मामले सामने आ चुके हैं. सबसे पहले केरल में कोरोना के तीन मामले सामने आए थे. इससे पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने बुधवार को इसे महामारी घोषित किया था. Also Read - क्या यूपी बोर्ड की 10वीं और 12वीं परीक्षा में सभी छात्र-छात्राओं को पास किया गया? जानें सच

WHO ने कोरोना वायरस को घोषित किया ‘महामारी’, भारत ने बचाव के लिए उठाया यह कदम Also Read - लोगों के न आने से भूखों मरने की कगार पर जीबी रोड की सेक्स वर्कर, RSS ने पहुंचाया राशन

विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) ने बुधवार को लोकसभा कहा कि कोरोना वायरस (Corona Virus) का फैलना चिंता का विषय है. हम जिम्मेदारीपूर्वक इस पर प्रतिक्रिया दे रहे हैं. उन्होंने यह भी आश्वासन दिया कि सरकार दुनिया किसी भी भाग में रहने वाले अपने नागरिकों की सुरक्षा और कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है. लोकसभा में कारेना वायरस के मुद्दे पर स्वत: संज्ञान के आधार पर बयान देते हुए एस जयशंकर ने कहा कि इटली में फंसे भारतीयों की मदद के लिये चिकित्सा दल भेजा गया है और जो जांच में नकारात्मक पाये जायेंगे, उन्हें यात्रा की अनुमति होगी. वहां नोडल आफिस स्थापित किया जा रहा है. एस जयशंकर ने कहा कि ईरान में 6000 भारतीय फंसे हैं, जिसमें महाराष्ट्र के 1100 श्रद्धालु और जम्मू कश्मीर के 300 छात्र शामिल हैं. विदेश मंत्री ने कहा कि प्रारंभिक जोर श्रद्धालुओं को वापस लाने का है जिसमें अधिकतर ईरान के कोम में फंसे हैं. उन्होंने कहा कि ईरान में फंसे भारतीय में से 529 के नमूने में से 229 जांच में नकारात्मक पाये गए हैं. Also Read - बेटे ने पुलिस से फोन कर कहा- 'पापा शराब पीकर लॉकडाउन का मजाक उड़ा रहे हैं, इन्हें काबू में करें'

कोरोना वायरस की वजह से शेयर बाजार में कोहराम, सेंसेक्स में अब तक की सबसे बड़ी गिरावट!

जयशंकर ने कहा कि कोरोना वायरस का फैलना चिंता का विषय है और हम जिम्मेदारीपूर्वक इस पर प्रतिक्रिया दे रहे है और सरकार दुनिया किसी भी भाग में रहने वाले अपने नागरिकों की सुरक्षा और कल्याण के लिए प्रतिबद्ध है. जयशंकर ने कहा कि कोरोना वायरस के प्रकोप की मौजूदा स्थिति को देखते हुये किसी भी व्यक्ति की स्वदेश वापसी के लिए संक्रमण मुक्त होने के प्रमाणपत्र की अनिवार्यता का सख्ती से पालन किया जाना जरूरी है. उन्होंने कहा कि वैश्विक कोरोना वायरस पर मंत्रिसमूह निगरानी रख रहा है और प्रधानमंत्री भी समय समय पर इसकी समीक्षा कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कोराना वायरस को फैलने रोकने के लिये और सख्त उपाए किये जा रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘जो भी (उपाय) जरूरी है, वह कर रहे हैं.’’