Corona Delta Plus Varient: कोरोना की दूसरी लहर में हजारों लोगों की मौत हो गई और लाखों लोग संक्रमित हुए. कोरोना की दूसरी लहर ने खूब तबाही मचाई और अब संक्रमण के आंकड़ों में कमी आने लगी है. लेकिन कोरोा की तीसरी लहर को लेकर डॉक्टरों व एक्सपर्ट्स द्वारा लगातार चेतावनी जारी की जा रही है. ऐसे कोरोना महामारी की दूसरी लहर में कहर मचाने वाले डेल्टा वेरिएंट में भी अब बदलाव आ चुका है. इसे डेल्टा प्लस वेरिएंट बताया जा रहा है.Also Read - कोरोना को लेकर आई यह अच्छी खबर! तो क्या नजदीक है महामारी का अंत? जानें अपडेट

मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और केरल में डेल्टा प्लस वेरिएंट के मामले अब सामने आने लगे हैं. डेल्टा प्लस वेरिएंट के देश में अबतक कुल 22 मामले सामने आए बैं. दिल्ली या उत्तर भारतीय इलाकों में अभी तक कोई संक्रमण का मामला दर्ज नहीं किया गया है. बता दें कि 22 में से 16 संक्रमण के मामले महाराष्ट्र के रत्नागिरि एवं जलगांव से सामने आए हैं. बाकी मामले केरल व मध्य प्रदेश से सामने आए हैं. Also Read - Covid Booster Dose: युवाओं को क्यों लगवानी चाहिए कोरोना की बूस्टर डोज? जानें स्टडी में क्या आया सामने

इस बाबत राज्यों को दिशानिर्देश भी जारी कर दिए गए हैं. ताकि यह संक्रमण बड़ा रूप न ले सके. बता दें कि डेल्टा प्लस वेरिएंट का संक्रमण भारत के अलावा अमेरिका, ब्रिटेन, स्विटजरलैंड, पुर्तगाल, जापान, नेपाल, चीन तथा रूस में भी सामने आया है. डेल्टा वेरिएंट को WHO ने वेरिएंट ऑफ कंसर्न घोषित किया है. Also Read - घरेलू हिंसा के खिलाफ आवाज उठाएंगी मोना सिंह, लॉकडाउन के दौरान महिलाओं के दर्द की कहानी है 'एक चुप'

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने बीते सप्ताह एक प्रजेंटेशन देते हुए कहा था कि संक्रमण का नया स्वरूप डेल्टा प्लस राज्य में कोरोना की तीसरी लहर का कारण बन सकता है. इस बाबत मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे राज्य कोविड 19 कार्य बल के सदस्य और स्वास्थ्य विभाग के सदस्य भी इस बैठक में शामिल हुए थे.