देश में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ने लगी है. सोमवार को एक दिन में 200 से अधिक नए मामले सामने आए. इस कारण संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1300 को पार कर गई है. इस बीत संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन किया गया है. लेकिन इस बीच कोरोना के खिलाफ जंग में सबसे बड़ी कमजोरी देश में इसके संदिग्ध मरीजों की टेस्ट में कमी है. Also Read - Corona Pandemic: PM मोदी ने 4 राज्‍यों के मुख्यमंत्रियों से कोविड-19 की स्थिति पर की बात

आंकड़ों के मुताबिक देश में इस वक्त 10 लाख की आबादी में से केवल 32 लोगों का टेस्ट हो रहा है. जो दुनिया की तुलना में बेहद कम है. इस बीमारी से बुरी तरह प्रभावित अमेरिका में बहुत तेजी से टेस्ट हो रहा है. केरल में देश की कुल आबादी के केवल 3 फीसदी लोग रहते हैं. वहां पर करीब 700 सैंपल टेस्ट किए गए हैं, जबकि आबादी के हिसाब से देश के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में केवल 2824 सैंपल टेस्ट किए गए हैं. केवल में अब तक 174 मामले आए हैं, जिसमें से केवल दो लोगों की मौत हुई है. Also Read - Haryana Lockdown Extension: हरियाणा में लॉकडाउन बढ़ाया गया, सख्‍ती जारी

जनसंख्या के हिसाब बड़े राज्य कहलाने वाले बिहार, पश्चिम बंगाल, झारखंड, मध्य प्रदेश और ओडिशा में केरल की तुलना में काफी कम टेस्ट हुए हैं. कई जानकारों का दावा है कि देश में काफी कम संख्या में हो रहे टेस्ट के कारण ही अभी संक्रमित लोगों की संख्या कम दिख रही है. Also Read - Lockdown Extended In Delhi: दिल्‍ली में लॉकडाउन एक हफ्ते बढ़ाया, CM केजरीवाल ने किया ऐलान

हिंदुस्तान टाइम्स ने केरल के स्वास्थय विभाग के अधिकारियों के हवाले से कहा है कि राज्य की 3.48 करोड़ की आबादी में अपेक्षाकृत अधिक लोगों के टेस्ट किए जाने के कारण ही कोविड-19 के अधिक मामले सामने आए हैं. केरल में अब तक 6690 सैंपल टेस्ट किए गए हैं. यह देश में किसी भी राज्य की तुलना में सबसे ज्यादा है. केरल की राज्य सरकार ने 151370 लोगों को क्वारंटाइन भी किया है.

केरल के स्वास्थय विभाग के मुताबिक जनवरी में कोविड-19 का पहला मामला सामने आने के बाद सरकार ने रिजनल वायरोलॉजी इंस्टीट्यूट, अलापुझा में टेस्ट करवाने पर जोर दिया था. इसके बाद फरवरी के मध्य में यहां शुरू भी हो गया. इसके अलावे मार्च में राज्य में तीन और लैब में काम शुरू हो गया. अभी तक देश के अधिकतर राज्यों में केवल एक ही लैब चालू है.

इसके अलावे राज्य में कॉट्रेक्ट ट्रेसिंग और सर्विलांस मैकेनिज्म भी बेहतर है. वैसे राज्य के कुछ इलाकों में तेजी से संक्रमण फैला है. इसको देखते हुए राज्य में और तेजी से टेस्ट किए जाने की जरूरत है. केरल में कोरोना पॉजिटिव के 174 मामले सामने आए हैं.