Oxford Covid Vaccine Latest Updates: देश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामलों के बीच इसके वैक्सीन (Covid Vaccine) को लेकर भी तमाम तरह के शोध जारी हैं. दुनिया के साथ-साथ भारत में भी कई वैक्सीन परीक्षण के अलग-अलग चरणों में हैं. इस बीच कोरोना वैक्सीन को लेकर एक अच्छी खबर सामने आई. ऑक्‍सफर्ड-एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन (Oxford AstraZeneca Covid vaccine) फेज 3 ट्रायल में 70 फीसदी से ज्‍यादा असरदार रही है. बता दें कि भारत में Serum Institute (SII) के साथ Oxford AstraZeneca की कोरोना वैक्सीन बनाई जा रही है. बता दें कि यह वैक्सीन एक डोज के रेजीमेन के तहत 90 फीसदी तक प्रभावी हो सकती है.Also Read - वैक्सीनेशन पर SC का फैसला, कहा- बाध्य नहीं कर सकती सरकार; मौजूदा वैक्सीन नीति को बताया सही

Also Read - चौथी लहर की आशंकाओं के बीच टीके की दूसरी और Booster Dose का गैप कम कर सकती है सरकार

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने सोमवार को ट्वीट किया, ‘आज हमलोगों ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अहम पड़ाव को पार कर लिया है. अंतरिम डेटा से मिले आंकड़े बताते हैं कि ऑक्सफोर्ड वैक्सीन 70.4% प्रभावी है. दो डोज के रेजीमेन में दिखा है कि यह 90 फीसदी असरकारक है.’ Also Read - अच्छी खबर! अब पांच से 12 साल के बच्चों को भी लगेगा टीका, सरकारी पैनल ने की 'कोर्बेवैक्स' वैक्सीन की सिफारिश

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘Astrazenca के साथ साझेदारी में हम अगले साल के अंत तक 3 बिलियन डोज दुनिया भर में उपलब्ध कराने की उम्मीद कर रहे हैं. बता दें कि सबसे अच्छी बात यह है कि ऑक्सफोर्ड वैक्सीन को फ्रिज के तापमान पर रखा जा सकता है और वर्तमान में मौजूद इंफ्रास्ट्रक्चर के सहारे ही इसका आवागमन कराया जा सकता है.’ यूनिवर्सिटी ने इस वैक्सीन को डेवलप करने के लिए दुनियाभर के अपने साझेदारों और शोधकर्ताओं को धन्यवाद अदा किया.

बता दें कि ऑक्‍सफर्ड-एस्‍ट्राजेनेका की ‘Covishield’ वैक्‍सीन ग्‍लोबल रेस के फ्रंटरनर्स में शामिल है. फाइजर और मॉडर्ना के टीके 90% से ज्‍यादा असरदार रहे हैं, लेकिन उनकी कीमतें इतनी हैं कि वह मध्‍य और निम्‍न आय वाले देशों के लिए मुफीद नहीं. रईस देशों से इतर दुनिया के लिए ऑक्‍सफर्ड-एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन ही उम्‍मीदें जगा रही है.