Top Recommended Stories

भारत में सीरम इंस्टीट्यूट के साथ बनाई जा रही Oxford की Vaccine ने भी दिखाया कमाल, वायरस से बचाव में 70% असरदार

Oxford Covid Vaccine Latest Updates: ऑक्‍सफर्ड-एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन (Oxford AstraZeneca Covid vaccine) फेज 3 ट्रायल में 70 फीसदी से ज्‍यादा असरदार रही है.

Updated: November 23, 2020 2:19 PM IST

By India.com Hindi News Desk | Edited by Parinay Kumar

Astrazeneca COVID Vaccine, Astrazeneca, COVID vaccines, COVID vaccine, mrna vaccines
The study shows an increased risk of the condition, called thrombosis with thrombocytopenia syndrome (TTS), after first-dose of the Oxford-Astrazeneca vaccine. (File Photo)

Oxford Covid Vaccine Latest Updates: देश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामलों के बीच इसके वैक्सीन (Covid Vaccine) को लेकर भी तमाम तरह के शोध जारी हैं. दुनिया के साथ-साथ भारत में भी कई वैक्सीन परीक्षण के अलग-अलग चरणों में हैं. इस बीच कोरोना वैक्सीन को लेकर एक अच्छी खबर सामने आई. ऑक्‍सफर्ड-एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन (Oxford AstraZeneca Covid vaccine) फेज 3 ट्रायल में 70 फीसदी से ज्‍यादा असरदार रही है. बता दें कि भारत में Serum Institute (SII) के साथ Oxford AstraZeneca की कोरोना वैक्सीन बनाई जा रही है. बता दें कि यह वैक्सीन एक डोज के रेजीमेन के तहत 90 फीसदी तक प्रभावी हो सकती है.

You may like to read

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने सोमवार को ट्वीट किया, ‘आज हमलोगों ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अहम पड़ाव को पार कर लिया है. अंतरिम डेटा से मिले आंकड़े बताते हैं कि ऑक्सफोर्ड वैक्सीन 70.4% प्रभावी है. दो डोज के रेजीमेन में दिखा है कि यह 90 फीसदी असरकारक है.’

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘Astrazenca के साथ साझेदारी में हम अगले साल के अंत तक 3 बिलियन डोज दुनिया भर में उपलब्ध कराने की उम्मीद कर रहे हैं. बता दें कि सबसे अच्छी बात यह है कि ऑक्सफोर्ड वैक्सीन को फ्रिज के तापमान पर रखा जा सकता है और वर्तमान में मौजूद इंफ्रास्ट्रक्चर के सहारे ही इसका आवागमन कराया जा सकता है.’ यूनिवर्सिटी ने इस वैक्सीन को डेवलप करने के लिए दुनियाभर के अपने साझेदारों और शोधकर्ताओं को धन्यवाद अदा किया.

बता दें कि ऑक्‍सफर्ड-एस्‍ट्राजेनेका की ‘Covishield’ वैक्‍सीन ग्‍लोबल रेस के फ्रंटरनर्स में शामिल है. फाइजर और मॉडर्ना के टीके 90% से ज्‍यादा असरदार रहे हैं, लेकिन उनकी कीमतें इतनी हैं कि वह मध्‍य और निम्‍न आय वाले देशों के लिए मुफीद नहीं. रईस देशों से इतर दुनिया के लिए ऑक्‍सफर्ड-एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन ही उम्‍मीदें जगा रही है.

Also Read:

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें Health की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

By clicking “Accept All Cookies”, you agree to the storing of cookies on your device to enhance site navigation, analyze site usage, and assist in our marketing efforts Cookies Policy.

?>