Corona Vaccine in India: शनिवार को दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टरों ने COVID -19 के खिलाफ सरकार के टीकाकरण अभियान पर चिंता जताते हुए कहा कि उन्हें भारत बायोटेक की कोरोना
वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ पर भरोसा नहीं है क्योंकि उसका पूरा ट्रायल नहीं हुआ है. डॉक्टरों ने इसके बजाय सीरम इंस्टीट्यूट की कॉविशील्ड की मांग की है. डॉक्टरों ने कोवैक्सीन (COVAXIN) की जगह कोविशील्ड (Covishield)
लगवाने की मांग की है. Also Read - UP पुलिस ने पूर्व एमपी धनंजय सिंह की तलाश में लखनऊ से दिल्ली तक छापे मारे

बता दें कि कोविशील्ड वैक्सीन ट्रायल के सभी चरणों को पूरा कर चुकी है वहीं भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल से गुजर रही है. हालांकि, केंद्र सरकार ने आशंकाओं को कम करते हुए कहा कि दोनों वैक्सीन के
विकास में बहुत काम किया गया है. Also Read - वैक्सीन लगवाई फिर भी MBBS स्टूडेंट की कोरोना संक्रमण से मौत, 10 छात्र चपेट में, बिहार के मेडिकल कॉलेज में हड़कंप

आरडीए ने चिकित्सा अधीक्षक को लिखे एक पत्र में कहा कि रेजीडेंट डॉक्टरों को कोवैक्सीन को लेकर कुछ संदेह है और वे लोग बड़ी संख्या में टीकाकरण अभियान में हिस्सा नहीं लेंगे और इस कारण शनिवार से देश में शुरू हुए टीकाकरण अभियान के उद्देश्य की पूर्ति नहीं हो सकेगी. Also Read - COVAXIN के तीसरे चरण के ट्रायल के आंकड़े जारी, कोरोना के UK वैरिएंट पर भी असरदार है यह देसी टीका

इससे पहले दिल्ली सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में कोरोनवायरस के खिलाफ बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान शुरू करने के लिए अंतिम रूप से 81 अस्पतालों में स्टॉक किए गए दो कोविड-19 टीके की खेप को 6 सरकारी
अस्पतालों में भेजा है. भारत बायोटेक की कोवैक्सीन अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), सफदरजंग और राम मनोहर लोहिया (आरएमएल) सहित छह केंद्र संचालित अस्पतालों में आवंटित किया गया है.

इसको लेकर RML के रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन (RDA) ने अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक को पत्र लिखकर कहा, “हमारे अस्पताल में भारत बायोटेक द्वारा निर्मित COVAXIN को सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड से ज्यादा
तरजीह दी जा रही है. हम आपके ध्यान में लाना चाहते हैं कि रेजिडेंट डॉक्टर कोवैक्सीन के मामले में संशय में हैं क्योंकि इसका पूरा ट्रायल नहीं हुआ है और हो सकता है कि बड़ी संख्या में टीकाकरण के लिए नहीं पहुंचे, जिससे
वैक्सीनेशन अभियान विफल होगा.”

a3o48vi4

पत्र में कहा गया है, ‘‘हमें पता चला है कि आज अस्पताल द्वारा कोविड-19 टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है. भारत बायोटेक द्वारा निर्मित ‘कोवैक्सीन’ को सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा निर्मित कोविशील्ड पर हमारे अस्पताल में प्राथमिकता दी जा रही है.’’ उल्लेखनीय है कि आरएमएल अस्पताल में कोविड-19 का पहला टीका एक सुरक्षा गार्ड को लगाया गया है.