Corona Vaccine Latest Update: कोरोना वायरस पर लगाम लगाने के लिए दुनिया के 18 देशों में वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, जल्द ही भारत में भी यह प्रक्रिया शुरू होने वाली है. भारत में सीरम इंस्टीट्यूट की कोवीशील्ड (Covishield) और भारत बायोटेक की कोवैक्सिन (Covaxine) को इमरजेंसी अप्रूवल मिल गई है. वैक्सीनेशन को लेकर पूरी जानकारी के लिए केंद्र सरकार ने CoWIN ऐप को जल्द लॉन्च किया जाएगा. इस ऐप से कोविड-19 वैक्सीन के लिए फ्री रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं.Also Read - भारत में अब तक 85 प्रतिशत पात्र आबादी ने लगवाया कोरोना वैक्सीन का पहला टीका: मनसुख मांडविया

CoWIN App है जरूरी, वैक्सीनेशन की मिलेगी जानकारी Also Read - Omicron को लेकर यूपी में गाइडलाइन जारी, दूसरे राज्य से गए तो मानने होंगे ये नियम, अस्पतालों में...

-CoWIN ऐप गूगल प्ले स्टोर पर बिल्कुल मुफ्त होगा और यूजर्स इसे आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं. Also Read - Omicron के बीच दिल्ली में इस बीमारी का कहर, 15 लोगों की गई जान, बढ़ रहा मौतों का आंकड़ा

-CoWIN पर रजिस्ट्रेशन करने से पहले इस ऐप को गूगल प्लेस्टोर से डाउनलोड करना होगा.

-इसके बाद पूरी ज़रूरी जानकारी डालकर अपना नाम रजिस्टर करना होगा.

-इसके लिए आधार नंबर के प्रमाणीकरण के साथ ही इसकी जानकारी 12 भाषाओं में मिलेगी.

– वैक्‍सीन लेने की पुष्टि  SMS के जरिए की जाएगी.

-इस ऐप के जरिए वैक्‍सीन लेने के वाले शख्स के किसी भी संभावित साइड इफेक्ट पर कड़ी निगरानी रखी जाएगी.

-एक व्यक्ति के वैक्सीनेशन का समय लगभग 30 मिनट का हो सकता है.

CoWIN App से संबंधित जानकारी, आपके लिए है जानना है जरूरी

-रजिस्ट्रेशन के लिए आधार कार्ड, पैन कार्ड या ड्राइविंग लाइसेंस जैसे दस्तावेज हैं जरूरी.

-गवर्नमेंट डॉक्‍यूमेंट एप DigiLocker को भी QR कोड बेस सर्टिफिकेट के लिए इस्‍तेमाल किया जा सकता है.

-इसके लिए 24×7 हेल्‍पलाइन होगी.

-हेल्थ केयर और फ्रंटलाइन वर्कर को Cowin ऐप पर रजिस्टर कराने की ज़रूरत नहीं होगी, इनका डेटा पहले ही सरकार के पास है.

-वैक्सीनेशन में लगे हेल्‍थवर्कर्स और लोगों को जानकारी देने के लिए 12 भाषाओं में SMS भेजे जाएंगे.

-इस ऐप पर अपना नाम रजिस्टर करने के बाद वेरिफिकेशन के लिए टाइमिंग और डेट के बारे में भी आपसे जानकारी ली जाएगी.

-CoWIN ऐप के जरिए आप यूनिक हेल्थ आईडी भी जनरेट कर सकते हैं.

-ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन पूरा करने के बाद ऐप पर दी गई गाइडलाइन्स जरूर पढ़ लें.

-वैक्सीन लगवाकर एक QR कोड सर्टिफिकेट भी मिलेगा, जिसे सेव करके रखा जा सकता है.

-सरकार की ओर जानकारी दी गई कि कोविन ऐप के सॉफ्टवेयर को चेक करने के लिए अलग-अलग स्तर पर कई बार पूर्वाभ्यास किया गया है.

-700 जिलों में 90 हजार से ज्यादा लोगों को सॉफ्टवेयर के इस्तेमाल के बारे में जानकारी दी गई है.

-जहां तक प्राथमिकता वाले उम्र वर्ग की बात है तो उन्हें कोविन ऐप में ऑटोमेटिक तरीके से सेशन निर्धारित कर दिया जाएगा.

-डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट टीकाकरण कार्यक्रम की तारीख निर्धारित करेंगे.

-स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि सभी राज्यों के 125 जिलों में 285 सेशन कोविन ऐप के आयोजित किए गए.

-पूर्वाभ्यास में मिले फीड बैक के आधार पर मंत्रालय ने कहा कि वैक्सीन को मंजूरी मिलने के 10 दिनों के भीतर टीकाकरण कार्यक्रम शुरू हो सकता है.

-कोविन ऐप में छोटे-छोटे बग्स पाए गए हैं, जिनका समाधान कर दिया गया है.

-सभी राज्यों ने ऐप के जरिए बड़े पैमाने पर टीकाकरण कार्यक्रम चलाने और संचालन गाइडलाइंस के प्रति पूर्ण विश्वास प्रकट किया है.

-देश में कोरोना वैक्सीनेशन का काम पांच सिद्धातों पर आधारित होगा.

-तकनीक के आधार पर लागू करना, एक साल या अधिक समय की तैयारी, मौजूदा स्वास्थ्य सेवाओं से कोई समझौता नहीं, चुनावों व यूनिवर्सल इम्यूनाइजेशन कार्यक्रमों के अनुभव का लाभ लिया जाए.