Covid Vaccine News: देश में 16 जनवरी से शुरू होने वाले कोरोना वैक्सीनेशन की तैयारियां जोरों पर है. सरकार ने एक दिन पहले ही सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) को कोरोना की वैक्सीन ‘Covishield’ का आधिकारिक ऑर्डर दिया था. सीरम इंस्टीट्यूट ने मंगलवार को पुणे से देश के कई शहरों में वैक्सीन की पहली खेप भेज दी है. Oxford और एस्ट्राजेनेका के कोरोना टीके Covishield का उत्पादन करने वाली सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) के CEO अदार पुनावाला (Adar Poonawalla) ने इसे ऐतिहासिक क्षण बताया. मालूम हो कि सीरम इंस्टीट्यूट वैक्सीन के एक डोज के लिए सरकार से 200 रुपये (Covid Vaccine Price) ले रही है.Also Read - Covid Vaccine News: अब बाजार में भी मिलेंगे Covishield और Covaxin टीके? विशेषज्ञ समिति ने की सिफारिश

न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए अदार पुणावाला (Adar Poonawalla) ने बताया कि बाजार में लोग किस दर पर यह टीका खरीद पाएंगे. पूनावाला ने कहा कि सरकार की अपील पर 10 करोड़ डोज 200 रुपए प्रति डोज (Covishield Market Price) की ‘विशेष कीमत’ पर दी गई है, ताकि आम लोगों, जरूरतमंद और स्वास्थ्यकर्मियों की मदद हो सके. उन्होंने कहा, ‘पहले 10 करोड़ डोज के लिए हमने कोई मुनाफा नहीं लेने का फैसला किया है. हम देश और सरकार की मदद करना चाहते हैं.’ पूनावाला ने यह भी कहा कि इसके बाद सरकार को टीके की लागत कीमत 200 रुपए से कुछ अधिक मूल्य देना होगा. Also Read - Omicron Booster: 60 साल से ज्यादा उम्र वाला कोई भी ले सकेगा बूस्टर खुराक, सरकार जल्द हटा सकती है ये शर्त

बाजार मूल्य के बारे में सीरम SII के सीईओ ने कहा, ‘हम इसे बाजार में 1000 रुपए में बेचेंगे. हालांकि इसके लिए अभी सरकार ने इजाजत नहीं मिली है. उन्होंने बताया कि सरकार से मंजूरी मिलने के बाद इसे बाजार में बेचेंगे. उन्होंने कहा कि अगर सरकार की तरफ से मंजूरी मिलती है तो हम इसे खुले बाजार में भेज सकते हैं. उसके लिए हमारे पास स्टॉक है. Also Read - Precaution Dose First Day: पहले दिन करीब 10.50 लाख लोगों को लगी वैक्सीन की तीसरी खुराक मिली

न्यूज एजेंसी ANI से बात करते हुए पुणावाला ने कहा, ‘कई देश भारत और प्रधानमंत्री कार्यालय (MPO) को सीरम इंस्टीट्यूट से वैक्सीन सप्लाई के लिए लिख रहे हैं. हम सभी को खुश रखने की कोशिश कर रहे हैं. हमें अपने देश और आबादी का भी ध्यान ध्यान रखना है. हम अफ्रीक्रा, दक्षिण अफ्रीका में वैक्सीन सप्लाई की कोशिश कर रहे हैं. हम कुछ ना कुछ हर जगह दे रहे हैं. हम सभी को खुश रखने की कोशिश करेंगे.’

बता दें कि शुरुआत में कोरोना के फ्रंटलाइन वर्करों को टीका लगाया जाएगा. प्रधानमंत्री मोदी (Narendra Modi) ने इस टीकाकरण अभियान को विश्व का सबसे बड़ा ‘टीकाकरण अभियान’ बताया था. उन्होंने कहा कि इसमें करीब तीन करोड़ स्वास्थ्यकर्मियों एवं अग्रिम मोर्चे पर कार्यरत कर्मियों को प्राथमिकता दी जाएगी.

(इनपुट: ANI)