Corona Vaccine Update: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया (Mansukh Mandaviya) ने गुरुवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन (Soumya Swaminathan) से मुलाकात की. इस दौरान भारत बायोटेक के कोविड​​-19 रोधी टीके कोवैक्सीन के लिए वैश्विक स्वास्थ्य निकाय की मंजूरी पर चर्चा हुई. मनसुख मांडविया ने ट्वीट किया, ‘WHO की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन के साथ मुलाकात की. भारत बायोटेक के कोविड​​-19 रोधी टीके कोवैक्सीन को WHO की मंजूरी के संबंध में सार्थक चर्चा हुई. डॉ. सौम्या ने कोविड-19 की रोकथाम में भारत के प्रयासों की सराहना की.’Also Read - Vaccine Maitri: अगले महीने से अतिरिक्त कोविड-19 टीके का निर्यात बहाल करेगा भारत, स्वास्थ्य मंत्री बोले- सरकार की प्राथमिकता देश के लोग

राज्यसभा को पिछले महीने बताया गया था कि भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन को आपातकालीन उपयोग सूची (EUL) में शामिल कराने के लिए 9 जुलाई को सारे जरूरी दस्तावेज जमा कर दिए थे और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने समीक्षा प्रक्रिया शुरू कर दी है. यह पूछे जाने पर कि क्या यह सरकार के संज्ञान में आया है कि भारत में इस्तेमाल किए जाने वाले कोवैक्सीन टीके को कई देशों द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं है, स्वास्थ्य राज्य मंत्री भारती प्रवीण पवार ने लिखित जवाब में कहा था कि सरकार को पता है कि वर्तमान में Covaxin डब्ल्यूएचओ की आपातकालीन उपयोग सूची का हिस्सा नहीं है. Also Read - Vaccination Drive: पीएम मोदी के जन्मदिन पर रिकॉर्ड वैक्सीनेशन, पहली बार 2 करोड़ से ज्यादा लगे टीके

Also Read - Coronavirus Updates: कोरोना वायरस को लेकर WHO की तरफ से आई Good News! जानें क्या कहा...

इस मुद्दे के समाधान के लिए सरकार के प्रयासों के बारे में प्रवीण पवार ने राज्यसभा को बताया कि कोवैक्सीन को आपातकालीन उपयोग सूची में शामिल कराने के लिए आवश्यक सभी दस्तावेज भारत बायोटेक द्वारा डब्ल्यूएचओ को 9 जुलाई तक जमा कर दिए गए हैं और एजेंसी द्वारा समीक्षा प्रक्रिया शुरू हो गई है.

राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (NIV) और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के साथ साझेदारी में भारत बायोटेक द्वारा विकसित कोवैक्सीन को तीन जनवरी को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिली थी. बाद में परीक्षण के परिणामों से पता चला कि टीका 78 प्रतिशत तक कारगर है.

(इनपुट- भाषा)