Corona Virus Cases: देश के करीब-करीब सभी इलाके में कोराना वायरस का संक्रमण फैल चुका है. पिछले 24 घंटे में देश भर से 540 नए मामले सामने आए हैं, जबकि इस दौरान 17 लोगों ने इस महामारी की वजह से अपनी जान गंवा दी. इसे मिलाकर अब तक देशभर में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या बढ़कर 5734 हो गई है, जबकि 166 लोगों की मौत हुई है. अच्छी बात यह है कि 473 लोग इस बीमारी से ठीक हुए हैं. कुल 5095 लोग इसके संक्रमण से जूझ रहे हैं. ये आंकड़े केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए हैं.Also Read - Atal Bimit Vyakti Kalyan Scheme: बेरोजगारों को सरकार ने 3 महीने तक दिया पैसा, कोरोना काल में गई नौकरी तो 30 दिनों के अंदर करें दावा

कोरोना वायरस से संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र से आए हैं. बुधवार को वहां 117 नये मामलों के साथ कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 1,135 हो गई. नये आए मामलों में अकेले मुंबई से 72 मामले सामने आए हैं. स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि महाराष्ट्र के विभिन्न हिस्सों में कोरोना वायरस के संक्रमण से आठ लोगों की मौत हुई है जिसके साथ राज्य में संक्रमण से कुल मृतकों की संख्या 72 हो गई है. Also Read - IIMC के महानिदेशक संजय द्विवेदी का बयान, बोले- कोरोना के खिलाफ जंग में मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका

Also Read - Coronavirus Cases in USA: अमेरिका में कोरोना के डेल्टा वेरिएंट का कहर, 1 दिन में 1 लाख से अधिक लोग संक्रमित

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में बुधवार को कोरोना वायरस के संक्रमण से मरने वालों की संख्या 45 हो गई जबकि शहर में संक्रमित मरीजों की संख्या 714 है. पूरे राज्य में अबतक 117 लोगों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पताल से छूट्टी दी गई है. स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया, ‘‘117 नये मामलों में 72 मुंबई के और 36 मामले पुणे के हैं.’’ अधिकारी ने बताया, ‘‘तीन मामले ठाणे में, दो पुणे ग्रामीण में, एक-एक मामले नवी मुंबई, बुलढाणा, अकोला, कल्याणी डोम्बिवली नगर निगम क्षेत्र में सामने आए हैं.’’

उन्होंने बताया कि राज्य में हुई आठ मौतों में पांच मौतें मुंबई में, दो पुणे में और एक मौत मुंबई के नजदीक कल्याण डोम्बिवली नगर निगम में हुई है. हालांकि, पुणे के नगर निकाय के मुताबिक मंगलवार रात से अबतक कोरोना वायरस के संक्रमण से आठ लोगों की मौत हुई है. राज्य सरकार और पुणे नगर निकाय के आंकड़ों में अंतर होने की वजह से तत्काल इसे शामिल नहीं किया गया है. राज्य सरकार के अधिकारी ने बताया, ‘‘ किसी भी मृतक ने विदेश यात्रा नहीं की थी लेकिन अधिकतर मधुमेह, उच्च रक्तचाप या दमे की बीमारी से जूझ रहे थे.’’