नयी दिल्ली: कोरोना वायरस से संक्रमण के मंगलवार से 10 और मामले सामने आने के बाद भारत में इससे संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 60 हो गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि केरल में आठ, दिल्ली और राजस्थान में संक्रमण के एक-एक नये मामले सामने आए हैं. मंत्रालय ने कहा कि इनमें दिल्ली में पॉजिटिव पाए गए पांच मामले और उत्तर प्रदेश के नौ लोग शामिल हैं जिनमें बुधवार शाम तक संक्रमण की पुष्टि हुई है. Also Read - Whatsapp का बड़ा फैसला, अब एक से ज्यादा लोगों को मैसेज फॉरवर्ड नहीं कर पाएंगे यूजर्स, ये है बड़ी वजह

कर्नाटक और महाराष्ट्र में कोविड-19 के क्रमश: चार और दो मामले सामने आए हैं. लद्दाख में भी दो लोग कोरोना वायरस से पॉजिटिव मिले हैं. मंत्रालय ने कहा कि राजस्थान, तेलंगाना, तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर और पंजाब में संक्रमण का एक-एक मामला सामने आया है. केरल में अब तक 17 मामले सामने आए हैं जिनमें वो तीन मरीज भी शामिल हैं जिन्हें पिछले महीने ठीक होने के बाद छुट्टी दे दी गई थी. मंत्रालय ने बताया कि 16 इतालवी नागरिकों समेत संक्रमित लोगों की कुल संख्या 60 हो गई है. वीडियो कॉल के जरिये मंगलवार को मेदांता और सफदरजंग अस्पतालों में भर्ती कोविड-19 के कुछ मरीजों से बात करने वाले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन ने कहा कि सभी संक्रमित व्यक्तियों की हालत स्थिर है और सुधार के संकेत दिख रहे हैं. Also Read - COVID-19: वायरस को मात देकर नर्स ने बताया ठीक होने का 'मंत्र', हॉस्पिटल में तालियां बजाकर मना जश्न

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि भारत गुरुवार को चिकित्सकों का एक दल इटली भेजेगा जो वहां फंसे भारतीय छात्रों के नमूने लेगा जिससे स्वदेश लाने से पहले उनका परीक्षण किया जा सके. मंत्रालय ने कहा कि भारत सरकार ईरान में कोविड-19 के प्रसार की पुष्टि के बाद अपने नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये कदम उठा रही है. मंत्रालय ने कहा कि ईरान में धार्मिक यात्रा पर गए भारतीय लोगों के अलावा छात्र और मछुआरे भी हैं. मंत्रालय ने बताया कि सात मार्च को ईरान से 108 नमूने प्राप्त हुए थे. इन नमूनों की एम्स की प्रयोगशाला में जांच की जा रही है. ईरान में भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के छह वैज्ञानिक मौजूद हैं और उन्होंने अब तक वहां फंसे 400 से ज्यादा भारतीयों के नमूने एकत्र किये हैं. Also Read - किचन में केक बनाते नजर आए अर्जुन कपूर, गर्लफ्रेंड मलाइका ने लिखा...

वहां प्रयोगशाला स्थापित करने के लिए उन्हें जरूरी उपकरण और सामग्री भेजी गई है. मंत्रालय ने कहा कि ईरान से निकाले गए 58 लोगों का पहला जत्था 10 मार्च को यहां पहुंचा था जिसमें 25 पुरुष,31 महिलाएं और दो बच्चे थे. इन सभी में फिलहाल लक्षण नहीं हैं. मंत्रालय ने कहा कि भारत कोविड-19 प्रभावित देशों से अब तक 948 यात्रियों को निकाल चुका है. इनमें से 900 भारतीय नागरिक हैं और 48 अन्य मालदीव, म्यामां, बांग्लादेश, चीन, श्रीलंका, अमेरिका, मेडागास्कर, नेपाल, दक्षिण अफ्रीका और पेरू से हैं. मंत्रालय ने कहा कि हवाईअड्डों पर अब तक 10,57,506 यात्रियों की जांच की जा चुकी है. वैश्विक स्तर पर कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप के बीच भारत ने मंगलवार को फ्रांस, जर्मनी और स्पेन के नागरिकों के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी और उनके अब तक जारी नियमित और ई-वीजा को स्थगित कर दिया.

आव्रजन ब्यूरो द्वारा मंगलवार देर रात जारी एक अधिसूचना में कहा गया कि फ्रांस, जर्मनी और स्पेन के ऐसे नागरिकों, जिन्होंने अब तक देश में प्रवेश नहीं किया है, के लिए 11 मार्च या उससे पहले जारी सभी नियमित (स्टीकर)वीजा/ई-वीजा निलंबित किये जाते हैं. इसमें कहा गया कि ऐसे सभी विदेशी नागरिकों जिनका एक फरवरी या उसके बाद इन देशों की यात्रा का रिकॉर्ड है और उन्होंने अब तक भारत में प्रवेश नहीं किया है तो उनके भी ई-वीजा समेत नियमित वीजा निलंबित किये जाते हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने यात्रा परामर्श जारी करते हुए चीन, हांगकांग, कोरिया गणराज्य, जापान, इटली, थाईलैंड, सिंगापुर, ईरान, मलेशिया, फ्रांस, स्पेन और जर्मनी की यात्रा करने वाले लोगों से भारत आने के बाद स्वत: 14 दिन तक खुद को पृथक रखने को कहा है और उनके नियोक्ताओं से कहा है कि इस अवधि के दौरान उन्हें घर से काम करने की सुविधा दी जाए. भारत इटली, ईरान, दक्षिण कोरिया, जापान और चीन के नागरिकों के लिए पहले ही वीजा निलंबित कर चुका है.