नई दिल्ली: दिल्ली सरकार ने तबलीगी जमात (Tabligi Jamaat) के उन 4000 सदस्यों को छोड़ने के आदेश दिए जिन्होंने राष्ट्रीय राजधानी के केन्द्रों में पृथक-वास की अवधि पूरी कर ली है. और वह भी जो पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं. दिल्ली के गृह मंत्री सत्येन्द्र जैन ने यह आदेश जारी किए. आदेश में यह भी कहा गया है कि निजामुद्दीन मरकज की घटना में इनमें से तबलीगी जमात के जिन सदस्यों के नाम दर्ज किए गए हैं और जांच के लिए उनकी जरूरत है, उन्हें दिल्ली पुलिस की हिरासत में भेजा जाएगा. उन्होंने कहा, ‘शेष सभी को उनके गृह राज्य भेज दिया जाए इसके लिए दिल्ली सरकार के गृह विभाग को राज्यों के रेजीडेंट कमिश्नर से संपर्क करने को कहा गया है. Also Read - कोरोना: दिल्ली में संक्रमण के मामले 20 हज़ार पार, मरने वालों की संख्या भी 500 से ज्यादा

सरकार के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी में पृथक केन्द्रों में तबलीगी जमात के कम से कम 4000 सदस्य हैं. इनमें से 900 लोग दिल्ली के हैं इसके अलावा अधिकतर लोग तमिलनाडु और तेलंगाना से हैं. उन्होंने कहा कि उनकी वापसी के लिए परिवहन की व्यवस्था करने के लिए दिल्ली सरकार अन्य राज्यों की सरकारों के साथ संपर्क में है. Also Read - धरना दे रहे BJP नेता हिरासत में, दिल्ली सरकार से मांग रहे थे विज्ञापनों का हिसाब

गौरतलब है कि तबलीगी जमात के हजारों सदस्य निजामुद्दीन मरकज में एक धार्मिक कार्यक्रम में इकट्ठा हुए थे. जानकारी मिलने के बाद इन सदस्यों को वहां से निकाला गया था. जांच में बड़ी संख्या में संक्रमण के मामले मिलने से यह स्थान कोरोना वायरस के हॉटस्पॉट के रूप में उभरा था. Also Read - Lockdown5.0 New Guidelines For Delhi: केजरीवाल सरकार ने लॉकडाउन में छूट का किया ऐलान, लेकिन इस बात का रखना होगा ध्यान