गाजियाबादः कोरोना वायरस(Corona virus) के डर के बीच उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में निर्धारित मूल्य से अधिक कीमत पर सैनिटाइजर(sanitizers) और मास्क बेचने के आरोप में पांच दवा दुकानों के लाइसेंस रद्द कर दिए गए. अधिकारियों ने बताया कि कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने में कारगर सैनिटाइजर और मास्क जैसी वस्तुओं की कालाबाजारी की शिकायत के बाद औषधि विभाग ने दवा की खुदरा और थोक बिक्री करने वाली दुकानों पर छापेमारी की. Also Read - कोरोना पीड़ितों की मदद पर सोना ने दिया ट्रोलर्स को जवाब, कहा- 'दान करती हूं, पब्लिसिटी नहीं'

उन्होंने बताया कि बताया कि जिलाधिकारी के निर्देश पर अतिरिक्त सिटी मजिस्ट्रेट (एसीएम) के नेतृत्व में छापेमारी की गई. जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने बताया कि एसीएम स्वयं दुकानों पर सैनिटाइजर और मास्क खरीदने गए और उन्होंने पाया कि कुछ दुकानदार इनकी अधिक कीमत वसूल रहे हैं और बिल भी नहीं दे रहे हैं.’’ उन्होंने बताया कि ऐसी पांच दुकानों के लाइसेंस रद्द किए गए हैं. Also Read - कोरोना वायरस: कार्तिक आर्यन ने प्रधानमंत्री राहत कोष में दान किए इतने करोड़ रुपए, लिखा- आज मैं जो कुछ भी हूं...

जिलाधिकारी ने कहा कि उन दवा दुकानदारों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी जो कोरोना वायरस से भयभीत और इसकी रोकथाम की कोशिश कर रहे लोगों को लूटते हुए पाए जाएंगे. आपको बता दें कि जब से कोरोना वायरस से बचने के लिए हैंड सैनिटाइजर और फेस मास्क के प्रयोग की बात कही गई है तब से अचानक से ही बाजार से सैनिटाइजर और मास्क पूरी तरह से गायब हो चुके है. लोगों में इस वायरस का इतना भय है कि मुह मांगी कीमत पर इन्हें खरीद रहे हैं. Also Read - करण जौहर के बेटे यश ने कहा, 'COVID-19' को भगा सकता है बॉलीवुड का ये स्टार

इस बीच बहुत सी ऐसी भी खबरे आ रही हैं कि सैनिटाइजर और मास्क को लेकर कालाबाजारी हो रही है. सरकार लगातार इस संबंध में सूचना जारी कर रही है कि अगर किसी भी तरह की ब्लैक मार्केटिंग की सूचना मिली तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी लेकिन बावजूद इसके प्रिंट दाम से अधिक मूल्य पर दुकानदार इन्हें बेच रहे हैं.