नई दिल्ली: चीन, जापान, सिंगापुर व थाईलैंड से आने वाले 1 लाख से ज्यादा यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोनावायरस की जांच के लिए पहले जहां 7 अतंर्राष्ट्रीय हवाईअड्डों पर विशेषज्ञ तैनात किए थे, वहीं अब 21 पर थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है. स्वास्थ्य मंत्रालय की सचिव प्रीति सूदन ने कहा कि विदेशों से आ रहे 1265 विमानों से आए 1,38,750 यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जा चुकी है.” इस थर्मल स्क्रीनिंग के दौरान कोई भी यात्री कोरोनावायरस से ग्रस्त नहीं पाया गया है. अभी तक देश में 3 व्यक्ति कोरोनावायरस से पीड़ित पाए गए हैं. ये तीनों व्यक्ति केरल में हैं और वहां इन्हे एकांत वार्ड में गहन चिकित्सीय निगरानी में रखा गया है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, अकेले गुरुवार को 157 विमानों से भारत आए 17,652 यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की गई. कोरोनावायरस के मुद्दे पर सभी अस्पताल, एयरपोर्ट्स, बंदरगाह व अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं से लोग स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी की गई राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं. भारत सरकार ने फोन नंबर 011-23978046 पर चौबीस घंटे की हेल्पलाइन सेवा शुरू की है. इस हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके कोरोनावायरस पर जानकारी व मदद हासिल की जा सकती है. वहीं, चीन में कोरोनावायरस के बीच फंसे भारतीयों के लिए भारत सरकार द्वारा विशेष हॉटलाइन सुविधा शुरू की गई है. चौबीस घंटे चालू रहने वाली यह हॉटलाइन सर्विस बुधवार से चीन में भारतीय दूतावास में शुरू की जा चुकी है. भारतीय नागरिक मदद के लिए जहां बीजिंग स्थित दूतावास में सीधे हॉटलाइन पर संपर्क कर सकते हैं, वहीं शंघाई एवं अन्य भारतीय केंद्रों पर ई-मेल के जरिए भारतीय अधिकारियों से मदद ली जा सकती है.

चीन स्थित भारतीय दूतावास ने दो हॉटलाइन नंबर +8618610952903 और हॉटलाइन नंबर +8618612083629 जारी किया है. इन दोनों हॉटलाइन नंबरों पर 24 घंटे संपर्क किया जा सकता है. गुरुवार को कारोनावायरस पर हुई समीक्षा बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, “किसी तरह की मदद की जरूरत पड़ने पर चीन में रह रहे भारतीय नागरिक इन हॉटलाइनों और ई-मेल पर दूतावास से सपर्क कर सकते हैं. संपर्क होने पर दूतावास के अधिकारी भारतीय नागरिकों को तुरंत मदद मुहैया कराने की व्यवस्था करेंगे.”

स्थास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी परामर्श की जानकारी देते हुए मंत्रालय के विशेष सचिव संजीव कुमार ने कहा, “भारतीय के सभी नागरिक चीन की यात्रा पर जाने से बचें. चीन जाने वाले लोगों को वापस आने पर 14 दिन के लिए अन्य लोगों से अलग में रखा जाएगा. चीन से भारत यात्रा का इरादा रखने वाले लोग भारतीय वीजा के लिए नए सिरे से आवेदन करने के लिए बीजिंग स्थित दूतावास या शंघाई स्थित वाणिज्य दूतावास और चीन के ग्वांगछू स्थित भारतीय मिशन से संपर्क कर सकते हैं. नोवेल कोरोनावायरस के संक्रमण से जुड़े नए परिदृश्य को देखते हुए स्थास्थ्य मंत्रालय ने नया यात्रा परामर्श जारी किया है. संशोधित यात्रा परामर्श के मुताबिक, चीन से आने वाले किसी भी विदेशी नागरिक के लिए वर्तमान वीजा (पहले से जारी ईवीजा सहित) वैध नहीं माना जाएगा.