Coroan Virus in Goa: कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन (Lockdown) है. सब कुछ ठप है और पीने वालों का बुरा हाल है. लत ऐसी कि लोगों पर रहा नहीं जा रहा है और उनकी सेहत पर भी असर पड़ रहा है. ऐसे में लोग नशा करने के तरीके तलाश कर रहे हैं, ताकि तलब कुछ शांत की जा सके. कुछ लोग 200 रुपए की बोतल ब्लैक में 2000 तक में खरीद रहे हैं. वहीं गोवा जैसे राज्य में जहां शराब हमेशा बहुतायत में रहती है, वहां भी लोगों ने नए तरीके खोज लिए हैं. Also Read - पीएम मोदी बोले- भारत ने सबसे पहले लगाया लॉकडाउन इसलिए आ रही करोना के मामलों में कमी

गोवा में इन दिनों लोग पारंपरिक शराब पी रहे हैं. ये शराब गोवा के गांवों में हरी गली-नुक्कड़ पर मिलती है और अब शहरों में भी कई लोग इसे पी रहे हैं. इस स्थानीय शराब को बनाने वाले लोगों को इन्हें घर तक पहुंचाने के लिए कहा जा रहा है. कैश्यु डिस्टिलर्स एंड बॉटलर्स एसोसिएशन के संस्थापक-अध्यक्ष मैक वाज ने कहा, ‘‘इन दिनों स्थानीय शराब की भारी मांग है. लोग हर संभव तरीके से इसे खरीदने की कोशिश कर रही है.’’ कोरोना वायरस पर लगाम लगाने के लिए देशव्यापी बंद के बाद तटीय राज्य में शराब की सैकड़ों दुकानें बंद है. Also Read - बिहार में कोरोना मरीजों की संख्या हुई ढाई लाख, मरने वालों का आंकड़ा एक हज़ार पार

मैक वाज ने बताया कि ये शराब काजू सेब के रस से बनती है और एक लीटर की इस शराब की बोतल की कीमत करीब 100 रुपए है. इन दिनों इसकी मांग बढ़ गई है. इसके बाद भी निर्माताओं ने इसकी कीमत नहीं बढ़ाई है. पोंडा के समीप निरांचल में स्थित काजू उत्पादक विकास प्रभु ने कहा, ‘‘लोग इस स्थानीय शराब के मौसम का इंतजार करते हैं लेकिन इस पारंपरिक पेय की मांग बढ़ गई क्योंकि शराब की दुकानें बंद हैं.’’ Also Read - Durga Pooja 2020: देवी दुर्गा में दिखी प्रवासी मजदूरों की पीड़ा, देश भर में हुई इस मूर्ती की तारीफ, जिसने बनाई उसे खबर तक नहीं

देश में 14 अप्रैल तक के लिए लॉकडाउन है. जिसे बढ़ाया जा सकता है. कोरोना के अब तक देश में सात हज़ार से अधिक मरीज मिल चुके हैं. जबकि 200 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. दुनिया भर में कोरोना के मरीजों की संख्या 15 लाख पार कर गई है. जबकि मरने वाले एक लाख से अधिक हो गए हैं.