नई दिल्ली: स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने देश में कोरोना वायरस (Corona Virus in India) की स्थिति को लेकर प्रेस कांफ्रेंस की. इस दौरान नीति आयोग (Niti Ayog), आईसीएमआर (ICMR) के अधिकारी भी मौजूद रहे. आईसीएमआर के डीजी डॉ. बलराम भर्गवा ने कहा कि भारत एक बड़ा देश है. भारत में अभी कोरोना का कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं है. वायरस अभी सामुदायिक स्तर पर नहीं फैला है. Also Read - देश में आर्थिक संकट पर शरद पवार बोले- भारत को इस समय एक मनमोहन सिंह की जरूरत

इस दौरान स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के लव अग्रवाल ने कहा कि देश के हॉस्पिटल में इंतज़ाम पूरे हैं. कुछ जगहों पर ऐसे मामले आए हैं, जहां पेशेंट्स को परेशानी हुई है. वह भर्ती नहीं हो पाए. इसके लिए और तैयारी की जा रही है. हेल्प लाइन नम्बर जारी किए गए हैं. लॉकडाउन के बीच हमने कई तरह की तैयारियां की हैं. Also Read - Corona Virus in Bihar: बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या 16 हज़ार पार, इन जिलों का बुरा है हाल

कोरोना संक्रमण से हुई मौतों की संख्या कितनी सटीक होती है, इसके जवाब में कहा कि राज्यों से जो सूची आती है, उसके बाद ऑडिट के आधार पर हम कोरोना से मरने वालों की संख्या बताते हैं. हम सही डाटा बतायेंगे तो लोग उसी हिसाब से कोरोना से लड़ पाएंगे. लव अग्रवाल ने कहा कि देश में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट 49. 21 प्रतिशत है. रिकवर होने वाले मरीजों की संख्या लगभग आधी है. Also Read - महाराष्ट्र: ठाणे के इस शहर में कोरोना का कहर जारी, एक सप्ताह के लिए बढ़ाया गया लॉकडाउन

क्या हमने चीन से कुछ सीखा क्योंकि उन्होंने अपने यहाँ कोरोना रोक दिया. नीति आयोग ने इसका जवाब देते हुए कहा कि चीन में ये वायरस सबसे पहले आया. जो चीन ने किया वही हम कर रहे हैं. कांटेक्ट ट्रेसिंग, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हुआ. टेस्टिंग हुई. ये हम निश्चित रूप से कह सकते हैं कि चीन ने जो किया वही तरीके हम अपना रहे हैं. भारत कोरोना को रोकने के लिए काफी काम कर रहा है. और अच्छा काम कर रहा है. हम जल्द ही इस मुश्किल से निकल जाएंगे.