Corona Virus in Indore: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) का इंदौर कोरोना वायरस (Corona Virus) का हॉटस्पॉट बना हुआ है. इंदौर में मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. और कई क्षेत्रों में एक के बाद एक मरीज मिल रहे हैं. यहाँ अब तक 23 लोगों की मौत हो चुकी है. हालत बेकाबू होने की ओर हैं. इस वजह से इंदौर को पूरी तरह सील कर दिया गया है. इस बीच प्रशासन ने अंतिम यात्रा में भी पांच से अधिक लोगों के शामिल होने पर रोक लगा दी है. इसके साथ ही अगर किसी की अस्पताल में मौत कोरोना या किसी अन्य बीमारी से होती है तो शव को घर भेजे जाने की बजाय सीधे शमशान या कब्रिस्तान भेजा जाएगा. अगर इन नियमों का पालन नहीं हुआ तो कार्रवाई की जा सकती है. Also Read - एकता कपूर समेत तीन पर FIR दर्ज, अश्लीलता फैलाने व राष्‍ट्रीय प्रतीकों के अपमान के आरोप

जिलाधिकारी मनीष सिंह द्वारा जारी आदेश में कहा गया है कि इंदौर शहर में वर्तमान में कोरोना के चलते सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) रखना अतिआवश्यक है तथा साथ ही साथ एक ही स्थान पर रहवासियों के स्वास्थ्य सुरक्षा हेतु भीड़ न लगे इसके लिए वर्तमान में कर्फ्यू प्रभावशील है. पूर्व के समय में यह देखने में आया है कि कुछ स्थलों पर कोरोना वायरस पॉजिटिव केवल इसलिए पाए गए, क्योंकि वे किसी शवयात्रा या जनाजे में कर्फ्यू के प्रभावशील रहते हुए शामिल हुए थे एवं उसके कुछ दिनों बाद ही संबंधित क्षेत्रों में कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए. Also Read - हैवानियत की हदें फिर हुईं पार, गर्भवती हथिनी के बाद अब गाय को खिलाया विस्फोटक

आदेश में कहा गया है कि किसी भी व्यक्ति की मृत्यु अर्थात नैसार्गिक, किसी भी बीमारी से अस्पताल अथवा घर पर होने पर किसी भी शवयात्रा या जनाजे में अधिकतम पांच व्यक्ति शामिल हो सकेंगे. पांच से अधिक व्यक्तियों के शामिल होने पर इस आदेश का उल्लंघन माना जाएगा. Also Read - Gold Price Today 6 June 2020: जानें आज आपके शहर में क्या है सोने का भाव, दाम में कितना रहा उतार-चढ़ाव

साथ ही शव को सीधे अंतिम संस्कार स्थल पर भेजने का भी इस आदेश में जिक्र करते हुए कहा गया है कि अस्पताल में किसी भी कोरोना पॉजिटीव मरीज अथवा अन्य प्रकार की किसी भी बीमारी में मृत्यु होने पर पार्थिव देह अस्पतालों से सीधे श्मशान या कब्रिस्तान या अंतिम संस्कार समस्त अन्य स्थलों पर सीधे भेजी जाएगी. किसी भी स्थिति में किसी भी पार्थिव देह को इंदौर जिले की सीमा से बाहर जाने की अनुमति नहीं रहेगी. इंदौर (Indore) में 221 मरीज कोरोना पीड़ित पाए गए हैं, वहीं 23 लोगों की मौत हो चुकी है. इसके चलते यहां कर्फ्यू लगा दिया गया है और सील कर दिया गया है.