नई दिल्ली: कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए दिल्ली के सभी प्राथमिक (प्राइमरी) विद्यालयों को 31 मार्च तक बंद रखने का फैसला लिया गया है. यह फैसला इन स्कूलों में पढ़ने वाले छोटे बच्चों को वायरस के संक्रमण से बचाए रखने के लिए एहतियात के तौर पर लिया गया है. दरअसल, कोरोना वायरस के संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा छोटे बच्चों, अधेड़ उम्र के लोगों व बुजुर्ग व्यक्तियों में है. इसके अलावा जिन लोगों को हृदयरोग, मधुमेह और फेफड़ों से संबंधित शिकायत है, उन्हें भी संक्रमण का खतरा अधिक है. Also Read - कोरोना से अब तक 111 लोगों की मौत, भारत में 4281 हुई संक्रमितों की संख्या; राज्यों ने दिए लॉकडाउन बढ़ाने के संकेत

बायोमेट्रिक हाजिरी बंद
वहीं एक अन्य फैसले में दिल्ली सरकार ने अपने सभी विभागों के कार्यालयों में अंगूठा या उंगली लगाकर दर्ज की जाने वाली बायोमेट्रिक हाजिरी को भी बंद कर दिया है. यह आदेश दिल्ली सचिवालय के सामान्य प्रशासन विभाग की ओर से जारी किया गया है. दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, “कोरोना वायरस की रोकथाम एवं सावधानी बरतते हुए दिल्ली सरकार ने तुरंत सभी प्राथमिक विद्यालयों को बंद करने का आदेश दिया है.” सिसोदिया ने कहा, “कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए उठाया गया यह कदम दिल्ली सरकार के प्रत्येक प्राथमिक विद्यालय, दिल्ली सरकार से सहायता प्राप्त स्कूलों, दिल्ली नगर निगम के प्राथमिक विद्यालयों के साथ ही दिल्ली के अन्य सभी प्राथमिक स्कूलों पर भी लागू होगा.” Also Read - कोरोना वायरस से हुई मां की मौत तो बेटे ने शव लेने से किया इनकार, जिला प्रशासन को करना पड़ा अंतिम संस्कार

स्कूल बंद
दिल्ली के शिक्षा मंत्री ने कहा, “नई दिल्ली क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले एनडीएमसी के स्कूलों पर भी यह आदेश लागू किया गया है.” दिल्ली सरकार के इस आदेश के बाद अब दिल्ली के सभी प्राथमिक विद्यालय 31 मार्च तक बंद रहेंगे. गौरतलब है कि इन दिनों दिल्ली के अधिकांश प्राथमिक विद्यालयों में सालाना परीक्षाएं चल रही हैं, लेकिन सरकार के इस आदेश के बाद अब परीक्षाओं को भी स्थगित कर दिया गया है. भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाने व संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से कोरोना वायरस बहुत तेजी से अन्य व्यक्तियों के शरीर में प्रवेश कर जाता है. यही कारण है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए इस वर्ष होली मिलन कार्यक्रमों में शिरकत करने से मना कर दिया है. इसके बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी एहतियात के तौर पर होली से जुड़े कार्यक्रमों में न जाने का निर्णय लिया है. वहीं हिंसा से प्रभावित उत्तर-पूर्वी दिल्ली के स्कूलों को दिल्ली सरकार पहले ही सात मार्च तक बंद रखने का आदेश दे चुकी है. यहां 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के अलावा अन्य सभी परीक्षाएं फिलहाल स्थगित कर दी गई हैं. Also Read - कांग्रेस ने सांसदों के वेतन में कटौती का स्वागत किया, सांसद निधि बहाल करने की मांग

संक्रमित लोगों की संख्या 30 तक पहुंची, दिल्ली-एनसीआर में 3 मामले
गाजियाबाद में नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) का एक नया मामला सामने आने के साथ ही देश में वायरस से संक्रमित लोगों की कुल संख्या 30 तक पहुंच चुकी है. इनमें से तीन मामले दिल्ली-एनसीआर के हैं. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने गुरुवार को पुष्टि की कि अभी तक देश में कोविड-19 के कुल पाजिटिव मामलों की संख्या 30 हो गई है. इन मामलों में केरल के वह तीन संक्रमित लोग भी शामिल हैं, जो अब ठीक हो चुके हैं और उन्हें अस्पताल से भी छुट्टी दे दी गई है.

दिल्ली-एनसीआर में तीन पाजिटिव रिपोर्ट वाले मामले हैं, जिनमें से दो लोगों ने इटली की यात्रा की थी. एक व्यक्ति ईरान गया था. दिल्ली में संक्रमित पहले व्यक्ति से एक जन्मदिन की पार्टी के दौरान आगरा के छह लोगों को कथित तौर पर संक्रमण हुआ. तेलंगाना में भी कोरोना के एक मामले की पुष्टि हुई है. संक्रमित व्यक्ति ने दुबई का दौरा किया था, जहां उसे सिंगापुर के एक व्यक्ति से संक्रमण हुआ था.

इन मामलों के अलावा 16 इतालवी पर्यटक भी संक्रमित हैं, जो भारत में घूमने आए थे. उनके साथ रह रहा एक भारतीय ड्राइवर भी संक्रमित हुआ है. तेलंगाना के पहले के दो संदिग्ध मामलों की रिपोर्ट नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) पुणे में नकारात्मक पाई गई है. मंत्रालय का कहना है कि संक्रमण की चपेट में आए इतालवी पर्यटक और भारतीय नागरिकों की हालात स्थिर है और उन पर कड़ी नजर रखी जा रही है.

(इनपुट आईएएनएस)