नई दिल्ली: भारत में शुक्रवार को कोरोना वायरस के रिकॉर्ड संख्या में लगभग 7,965 नए मामले सामने आए. अब तक एक दिन में इतने मामले सामने नहीं आए थे. इस महामारी के कुल मामलों की संख्या बढ़ कर 1.68 लाख तक पहुंच गई. मृतकों का आंकड़ा 4,700 के आंकड़े को पार कर गया. ठीक होने वालों की संख्या में भी महत्वपूर्ण वृद्धि हुई है तथा अब तक 81 हजार से अधिक लोगों को अस्पतालों से छुट्टी मिल चुकी है. घातक वायरस के संक्रमण की चपेट में आने वालों में पुलिस से लेकर कैदियों तक, कैबिन क्रू से लेकर स्वास्थ्यकर्मियों तक और प्रवासी मजदूरों से लेकर एक मंत्री तक, हर तबके के लोग शामिल हैं. जान गंवानेवालों में केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षाबल (सीआईएसएफ) के 58 वर्षीय एक कर्मी भी शामिल हैं जो कोलकाता में युद्धपोत भवन में तैनात थे. उनके अलावा खाड़ी देश से केरल लौटे 65 वर्षीय एक बुजुर्ग भी जान गंवाने वालों में शामिल हैं. Also Read - कोरोना के हवा से फैलने के दावे से घबराएं नहीं, बस करिए ये काम, जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ 

अच्छा संकेत यह है कि कई राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने घोषणा की कि कोविड-19 के मरीज बड़ी संख्या में ठीक हो रहे हैं और उन्हें अस्पतालों से छुट्टी मिल रही है. इससे पूरे देश में ठीक होने वालों की संख्या 81,700 से अधिक हो गई है. ठीक होने वालों की संख्या में बृहस्पतिवार से लेकर 11 हजार से अधिक की वृद्धि हुई है. Also Read - Lockdown in Patna: 10 जुलाई से पटना में एक हफ्ते के लिए सख्त लॉकडाउन, ये सब रहेगा बंद

अस्पतालों में इलाज करा रहे कोविड-19 के मरीजों की संख्या में पांच हजार से अधिक की कमी आई है और यह घटकर लगभग 82 हजार रह गई है जो अब भी अमेरिका, रूस, ब्राजील और फ्रांस के बाद दुनिया में पांचवें नंबर पर है. लॉकडाउन प्रतिबंधों में ढील, घरेलू उड़ानें शुरू होने, प्रवासी मजदूरों को एक राज्य से दूसरे राज्य ले जा रहीं श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के लगातार चलने और फंसे भारतीयों को विदेश से वापस लाने के लिए विशेष उड़ानों के परिचालन के बीच पिछले कुछ दिन से कोरोना वायरस के मामलों में काफी वृद्धि देखने को मिल रही है. देश में हालांकि 25 मार्च से लॉकडाउन जारी है, लेकिन 31 मई तक के लिए लागू इसके चौथे चरण में कई तरह की ढील दी गई हैं. Also Read - वैक्सीन न बनी तो भारत में आएगी तबाही, 2021 की सर्दियों में हर दिन आएंगे कोरोना के 2. 87 लाख केस, रिसर्च में दावा

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सुबह के अपडेट में कहा कि देश में कोरोना वायरस से मरनेवालों की संख्या 4,706 हो गई है, जबकि संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 1,65,799 तक पहुंच गई है. बृहस्पतिवार सुबह आठ बजे से लेकर पिछले 24 घंटे में 175 मौत हुई हैं और रिकॉर्ड 7,466 नए मामले सामने आए हैं. हालांकि विभिन्न राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के आंकड़ों के आधार पर पीटीआई द्वारा तैयार की गई तालिका के अनुसार, रात नौ बजकर 40 मिनट तक देश में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 1,68,386 हो गई है तथा मृतकों की संख्या 4,784 तक पहुंच गई है. तालिका के अनुसार ,अब तक 81,702 लोग ठीक हुए हैं और विभिन्न अस्पतालों में इलाजरत मरीजों की संख्या लगभग 82 हजार है.

वाणिज्य एपं उद्योग मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि अप्रैल 2020 में कोविड-19 महामारी के चलते लागू राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के मद्देनजर कोयला, सीमेंट, इस्पात, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी, कच्चा तेल इत्यादि उद्योगों को भारी नुकसान हुआ है. वहीं, राष्ट्रीय राजधानी स्थित संसद में कार्यरत राज्यसभा सचिवालय का एक अधिकारी शुक्रवार को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया. अधिकारियों ने बताया कि संसदीय परिसर में कोविड-19 संक्रमण का यह चौथा मामला है. संसदीय सौध भवन की दो मंजिल सील कर दी गई हैं.

दूरदर्शन न्यूज ने अपने 53 वर्षीय वीडियो पत्रकार की मृत्यु के पश्चात उसे कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि होने के बाद अपने संचालन संबंधी कामकाज को मंडी हाउस से खेलगांव स्थित अपने स्टूडियो में स्थानांतरित कर दिया. अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. केरल में शुक्रवार को 62 व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित पाये गए जिनमें एक स्वास्थ्य कर्मी, एअर इंडिया के चालक दल के दो सदस्य और दो कैदी शामिल हैं. इससे राज्य में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,150 हो गए. खाड़ी देश से लौटे एक व्यक्ति की संक्रमण से मौत हो गई जिससे राज्य में मृतक संख्या बढ़कर आठ हो गई.

महाराष्ट्र में शुक्रवार को कोविड-19 के 2,682 नए मामले आए और 116 लोगों की कोरोना वायरस संक्रमण से मौत हुई है. लेकिन इन सभी के बीच अच्छी खबर यह है कि राज्य में एक दिन में 8,381 लोग इलाज के बाद संक्रमण मुक्त हुए हैं. स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि राज्य में अभी तक 62,228 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए हैं जबकि 2,098 लोगों की वायरस संक्रमण से मौत हुई है. उन्होंने बताया कि राज्य में इलाज के बाद अभी तक कुल 26,998 लोग संक्रमण मुक्त हुए हैं.

वहीं, गुजरात में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 372 नए मामले सामने आने के साथ ही संक्रमितों की कुल संख्या 15,944 तक पहुंच गई. राज्य स्वास्थ्य विभाग ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. विभाग ने एक बयान में कहा, इसी अवधि में कोविड-19 के 20 मरीजों ने दम तोड़ दिया, जिसके साथ ही राज्य में अब तक 980 मरीज जान गंवा चुके हैं. इस बीच, तमिलनाडु में नौ और व्यक्तियों की कोविड-19 से मौत हो गई. राज्य में कोरोना वायरस के एक दिन में सबसे अधिक 874 मामले सामने आये जिससे राज्य में संक्रमितों की संख्या 20 हजार से अधिक हो गई. ओडिशा में कोरोना वायरस संक्रमण के 63 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 1,723 हो गई है. स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि ताजा नए मामलों में से 61 हाल ही में देश के अन्य हिस्सों से विभिन्न जिलों में लौटे हैं. वहीं दो मामले संक्रमण के संपर्क का पता लगाने से सामने आए हैं.

पश्चिम बंगाल में एक मंत्री कोरोना वायरस से संक्रमित मिले हैं. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नीत राज्य मंत्रिमंडल में इस तरह का यह पहला मामला है. सरकार में महत्वपूर्ण पद पर मौजूद एक सूत्र ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. सूत्र ने बताया कि राज्य अग्निशमन सेवा मंत्री सुजीत बोस के संक्रमित पाए जाने के बाद उन्हें घर में ही पृथकवास में रहने की सलाह दी गई है. कोलकाता में युद्धपोत निर्माण इकाई जीआरएसईएल में पदस्थ केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के एक कर्मी की कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मौत हो गई. अधिकारियों ने शुक्रवार को बताया कि कोलकाता स्थित रक्षा पीएसयू में कोविड-19 के कारण मौत का यह दूसरा तथा करीब 1.62 लाख कर्मियों के बल में संक्रमण से मौत का यह चौथा मामला है.

कोलकाता में एक अस्पताल के चार स्वास्थ्यकर्मी और 10 पुलिसकर्मी भी संक्रमित पाए गए हैं. इस बीच, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पाबंदियों में एक जून से कई छूट देने की घोषणा करते हुए शुक्रवार को कहा कि प्रवासी श्रमिकों के बड़ी तादाद में आने के चलते राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं. ममता ने कहा कि एक जून से धार्मिक स्थल खोले जा सकते हैं और सरकारी एवं निजी कार्यालयों में पूर्ण उपस्थिति की इजाजत होगी. उत्तराखंड सरकार ने शुक्रवार को राज्य सचिवालय तथा विधानसभा सहित अपने सभी शासकीय कार्यालयों को एक जून से, लॉकडाउन से पहले की तरह खोलने का निर्णय किया है.