नई दिल्ली: भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के 39 मामले आने के बाद कैबिनेट सचिव ने रविवार को समीक्षा बैठक की जिसमें फ्रांस, अमेरिका और स्पेन में संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर इन देशों से आने वाले यात्रियों के लिए हवाई अड्डे पर अलग एयरोब्रिज होंगे. उल्लेखनीय है कि चीन, दक्षिण कोरिया, जापान, इटली, ईरान, सिंगापुर, थाईलैंड, हांगकांग, वियतनाम, नेपाल और इंडोनेशिया से आने वाले यात्रियों के लिए भी अलग से एयरोब्रिज का इस्तेमाल किया जा रहा है. Also Read - Covid-19: तेलंगाना में कोरोना वायरस से पहली मौत, 6 नए मामले

आधिकारिक बयान के मुताबिक कैबिनेट सचिव की हुई 16वीं समीक्षा बैठक में ईरान में फंसे भारतीयों को लाने की तैयारियों पर विस्तृत चर्चा की गई. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि चूंकि कोरोना वायरस का संक्रमण 90 देशों में फैल चुका है और एक लाख के करीब संक्रमण के मामले सामने आए हैं, इसलिए राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को यात्रियों की दी गई सूची के अनुसार सामुदायिक निगरानी को मजबूत करने को कहा गया. Also Read - Covid-19: BCCI ने प्रधानमंत्री के आपदा प्रबंधन राहत कोष में दिए 51 करोड़ रूपये

बयान में कहा गया कि ‘‘ फ्रांस, अमेरिका और स्पेन में संक्रमण के बढ़ रहे मामलों के मद्देनजर इन देशों के यात्रियों के लिए अलग एयरोब्रिज का इस्तेमाल करने का फैसला किया गया. यह व्यवस्था पहले से 12 देशों के यात्रियों पर लागू नियम के अलावा होगी. समीक्षा बैठक के दौरान इस बात पर जोर दिया गया कि लोगों को मास्क के इस्तेमाल के प्रति जागरूक किया जाना चाहिए. Also Read - कोरोना के भय से घर वापसी को बेताब प्रवासी मजदूर, आनंद विहार बस टर्मिनल पर जुटी हजारों की भीड़

मंत्रालय ने कहा कि स्वस्थ लोगों को मास्क का इस्तेमाल केवल संदिग्ध संक्रमितों से बचने के लिए करना चाहिए. उन लोगों को भी मास्क पहनना चाहिए जिन्हें खांसी या जुकाम है. बयान के मुताबिक केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन लगातार हालात पर नजर रखे हुए हैं और स्थिति, की गई कार्रवाई और तैयारियों की समीक्षा कर रहे हैं.