नई दिल्ली: सरकार की ओर से बुधवार को जारी एक बयान के अनुसार, देश में कोरोना वायरस के तेजी से फैलते संक्रमण से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन कानून के तहत केन्द्रीय गृह सचिव को प्राप्त होने वाली शक्तियां फिलहाल केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव को सौंप दी गई हैं. केन्द्रीय गृह मंत्रालय की ओर से जारी आदेश के अनुसार, कानून के प्रावधान 10 और राष्ट्रीय कार्यकारी समिति (एनईसी) के अध्यक्ष होने के नाते इन शक्तियों का उपयोग केन्द्रीय गृह सचिव द्वारा किया जाता है. Also Read - COVID-19: गाजियाबाद में कोरोना के 10 नए मामले, जिले में संक्रमित लोगों की संख्या 23 हुई

यह प्रावधान गृह सचिव को देश भर में लागू योजनाओं की निगरानी करने और अन्य मंत्रालयों तथा केन्द्र सरकार के विभागों द्वारा तैयार योजनाओं और उसे लागू करने वाले अधिकारियों पर वरिष्ठता देता है. ताजा आदेश के अनुसार, कोविड-19 और उससे जुड़े अन्य मुद्दों के मद्देनजर ये सभी अधिकार फिलहाल केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव को सौंपे जाते हैं. Also Read - लॉकडाउन: दिल्ली में बिना राशन कार्ड वालों को भी मिलेगा 5 किलो राशन, केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला

बता दें कि कोरोना वायरस से संक्रमण के मंगलवार से 10 और मामले सामने आने के बाद भारत में इससे संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 60 हो गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि केरल में आठ, दिल्ली और राजस्थान में संक्रमण के एक-एक नये मामले सामने आए हैं. मंत्रालय ने कहा कि इनमें दिल्ली में पॉजिटिव पाए गए पांच मामले और उत्तर प्रदेश के नौ लोग शामिल हैं जिनमें बुधवार शाम तक संक्रमण की पुष्टि हुई है. Also Read - प्रियंका गांधी ने योगी सरकार के लिए सुबह किया Tweet, शाम तक 26 हेल्थ वर्कर्स को फिर मिली नौकरी

कर्नाटक और महाराष्ट्र में कोविड-19 के क्रमश: चार और दो मामले सामने आए हैं. लद्दाख में भी दो लोग कोरोना वायरस से पॉजिटिव मिले हैं. मंत्रालय ने कहा कि राजस्थान, तेलंगाना, तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर और पंजाब में संक्रमण का एक-एक मामला सामने आया है. केरल में अब तक 17 मामले सामने आए हैं जिनमें वो तीन मरीज भी शामिल हैं जिन्हें पिछले महीने ठीक होने के बाद छुट्टी दे दी गई थी. मंत्रालय ने बताया कि 16 इतालवी नागरिकों समेत संक्रमित लोगों की कुल संख्या 60 हो गई है.

 

इनपुट-भाषा