नई दिल्ली: सरकार की ओर से बुधवार को जारी एक बयान के अनुसार, देश में कोरोना वायरस के तेजी से फैलते संक्रमण से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन कानून के तहत केन्द्रीय गृह सचिव को प्राप्त होने वाली शक्तियां फिलहाल केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव को सौंप दी गई हैं. केन्द्रीय गृह मंत्रालय की ओर से जारी आदेश के अनुसार, कानून के प्रावधान 10 और राष्ट्रीय कार्यकारी समिति (एनईसी) के अध्यक्ष होने के नाते इन शक्तियों का उपयोग केन्द्रीय गृह सचिव द्वारा किया जाता है. Also Read - कोरोना वायरस से रिकवरी के बाद तुरंत नहीं लगवाएं वैक्सीन, ऐसे लोग कब लगवा सकते हैं टीका, जानिए..

यह प्रावधान गृह सचिव को देश भर में लागू योजनाओं की निगरानी करने और अन्य मंत्रालयों तथा केन्द्र सरकार के विभागों द्वारा तैयार योजनाओं और उसे लागू करने वाले अधिकारियों पर वरिष्ठता देता है. ताजा आदेश के अनुसार, कोविड-19 और उससे जुड़े अन्य मुद्दों के मद्देनजर ये सभी अधिकार फिलहाल केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव को सौंपे जाते हैं. Also Read - COVID19 vaccine: कोरोना वैक्सीन के लिए मचा गदर, पुलिस भी हांफने लगी संभालने में, देखें Video

बता दें कि कोरोना वायरस से संक्रमण के मंगलवार से 10 और मामले सामने आने के बाद भारत में इससे संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 60 हो गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि केरल में आठ, दिल्ली और राजस्थान में संक्रमण के एक-एक नये मामले सामने आए हैं. मंत्रालय ने कहा कि इनमें दिल्ली में पॉजिटिव पाए गए पांच मामले और उत्तर प्रदेश के नौ लोग शामिल हैं जिनमें बुधवार शाम तक संक्रमण की पुष्टि हुई है. Also Read - CoronaVirus In India: आनेवाली है कोरोना की तीसरी लहर, इससे डरना नहीं, लड़ना है, जानिए कैसे बच सकते हैं...

कर्नाटक और महाराष्ट्र में कोविड-19 के क्रमश: चार और दो मामले सामने आए हैं. लद्दाख में भी दो लोग कोरोना वायरस से पॉजिटिव मिले हैं. मंत्रालय ने कहा कि राजस्थान, तेलंगाना, तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर और पंजाब में संक्रमण का एक-एक मामला सामने आया है. केरल में अब तक 17 मामले सामने आए हैं जिनमें वो तीन मरीज भी शामिल हैं जिन्हें पिछले महीने ठीक होने के बाद छुट्टी दे दी गई थी. मंत्रालय ने बताया कि 16 इतालवी नागरिकों समेत संक्रमित लोगों की कुल संख्या 60 हो गई है.

 

इनपुट-भाषा