नई दिल्‍ली: देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण की महामारी के बीच पुलिस और ग्रामीणों के बीच हुई मारपीट का यह वीडियो सामने आया है. इस वीडियो में ग्रामीण और पश्चिम बंगाल पुलिस के जवान बुरी तरह मारपीट करते हुए दिखाई दे रहे हैं. वीडियो में कुछ के हाथों में ईंट और पत्‍थर भी हैं. वीडियो में महिलाएं भी खूब गुस्‍सा करते हुए दिखाई दे रही हैं. इस घटना में तीन पुलिसकर्मी और कुछ स्थानीय लोग घायल हुए हैं. Also Read - Coronavirus In Pakistan: पाकिस्तान में संक्रमण के 2,964 नए मामले, आंकड़ा 72 हजार के पार

मारपीट का यह भयवाह सीन पश्चिम बंगाल के 24 नॉर्थ परगना है. वीडियो में मारपीट करने वालों में कुछ पुलिसकर्मी सिविल ड्रेस में भी दिखाई दे रहे हैं. Also Read - Coronavirus In World Update: दुनिया में 61 लाख संक्रमित, 3.71 लाख से अधिक मौतें

पश्चिम बंगाल के 24 नॉर्थ परगना के बदुरिया के ग्रामीणों के बीच मारपीट तब शुरू हुई जब ग्रामीणों ने सड़क पर जाम लगा दिया था. इस पर पहुंची पुलिस ने आपत्ति उठाई तो विवाद शुरू हो गया. वीडियो में महिलाएं ग्रामीण Coronavirus Lockdown के बीच राशन सामग्री के वितरण में गड़बड़ी का आरोप लगा रहे थे.

बदुरिया में राहत सामग्री को लेकर झड़प में तीन पुलिसकर्मी घायल
पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना जिले के बदुरिया इलाके में बुधवार को प्रदर्शन कर रहे स्थानीय लोगों के साथ झड़प में तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए. स्थानीय लोगों का आरोप था कि लॉकडाउन के दौरान उन्हें राहत सामग्री नहीं दी जा रही है. बदुरिया में दासपाड़ा के निवासी सुबह से ही राहत सामग्री के सवाल पर विरोध कर रहे थे. उन्होंने पास की एक सड़क को जाम कर दिया था. बुधवार दोपहर में पुलिस का एक दल मौके पर पहुंचा और प्रदर्शनकारियों को शांत करने की कोशिश की.

पुलिस ने लाठीचार्ज किया
पुलिस ने प्रदर्शनकारियों से अपने घरों को लौटने का आग्रह किया और आश्वासन दिया कि उन्हें आवश्यक वस्तुओं का वितरण किया जाएगा. इसके बाद भी विरोध प्रदर्शन जारी रहा तो पुलिस ने बल प्रयोग किया. इसके बाद स्थानीय लोगों और पुलिस के बीच झड़प शुरू हो गई और स्थानीय लोगों ने पुलिसकर्मियों पर पथराव किया. स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया. इस घटना में तीन पुलिसकर्मी और कुछ स्थानीय लोग घायल हुए हैं.

खाद्य आपूर्ति मंत्री ने बताया कैसे शुरू हुई गड़बड़ी 
राज्य के खाद्य आपूर्ति मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक ने कहा कि एक स्थानीय पार्षद ने इलाके के लोगों से कहा कि उन्हें अतिरिक्त राहत सामग्री प्रदान की जाएगी. इसके बाद यह घटना हुई.मंत्री तृणमूल कांग्रेस के जिला अध्यक्ष भी हैं. उन्होंने कहा कि उन्होंने प्रखंड विकास अधिकारी से कहा है कि वे विरोध कर रहे लोगों को राहत सामग्री प्रदान करें.

राज्य सरकार मुफ्त राशन दे रही है 
खाद्य आपूर्ति मंत्री ने बताया क‍ि जब मुझे इस घटना के बारे में पता चला तो मैंने इसके बारे में पता किया और पाया कि क्षेत्र के सभी परिवारों को राज्य सरकार द्वारा मुफ्त राशन दिया जा रहा है. गड़बड़ी तब शुरू हुई जब स्थानीय पार्षद ने व्यक्तिगत रूप से कुछ राहत सामग्री देने का वादा किया, लेकिन वह सभी सभी परिवारों को राहत सामग्री प्रदान करने में विफल रहे.