नई दिल्ली: अरविंद केजरीवाल सरकार कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों में मद्देनजर दक्षिणी दिल्ली में विशाल तंबू में कोरोना वायरस रोगियों के लिये 10 हजार बिस्तरों वाला अस्थायी अस्पताल तैयार करने की योजना बना रही है. यह प्रस्तावित अस्पताल आध्यात्मिक संगठन स्वामी सत्संग ब्यास के दक्षिणी दिल्ली स्थित परिसर में स्थापित किया जाएगा. हालांकि इस बीच केजरीवाल ने एक वीडियो संदेश जारी कर दिल्ली के डॉक्टरों से मदद मांगी है. Also Read - वैज्ञानिकों ने खोजा कोरोना से जुड़ी गंभीर बीमारियों से बच्चों को बचाने का रहस्य, जानिए क्या है इनका दावा  

केजरीवाल ने शनिवार शाम को एक वीडियो जारी कर दिल्ली के डॉक्टरों से कहा कि इस मुश्किल घड़ी में अगर निशुल्क लोगों की मदद करना चाहते हैं. लोगों को फोन के ऊपर मेडिकल सलाह देना चाहते हैं तो आप 08047192219 नंबर पर मिस्ड कॉल दें. Also Read - कोरोना महामारी के बीच फिल्म निर्माता बना रहे हैं ये प्लान, तापसी पन्नू की आगामी फिल्म से हो सकती है शुरुआत

अपने वीडियो संदेश में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि पूरे विश्व में इस समय कोरोना फैला हुआ है. हमारे देश में भी बहुत तेजी से कोरोना बढ़ रहा है. दिल्ली में भी कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है. उन्होंने कहा, “मानव जाति के इतिहास में शायद इतनी बड़ी विपदा शायद इससे पहले कभी नहीं आई है. अकेले कोई एजेंसी या संस्था इसे ठीक नहीं कर पाएगी. इतनी बड़ी समस्या है हम सबको साथ आकर इससे निपटना पड़ेगा.” Also Read - अमेरिका में नए वीजा नियम से लाखों भारतीय छात्र परेशान, क्या नरमी बरतेगा ट्रंप प्रशासन?

इससे पहले दिल्ली सरकार ने शनिवार को सर गंगाराम अस्पताल को कोविड-19 जांच फिर से शुरू करने की अनुमति दे दी. सरकार ने तीन जून को जारी एक आदेश में अस्पताल को कोविड-19 के संदिग्ध रोगियों या उनके संपर्क में आए लोगों के आरटी/पीसीआर नमूने लेने पर तत्काल रोक लगाने के लिये कहा था.

दिल्ली सरकार ने कोविड-19 नियमों के कथित उल्लंघन के लिये अस्पताल के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज कराई थी, जिसे रद्द करने के लिये अस्पताल ने दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दायर की है. याचिका पर सोमवार को सुनवाई होनी है.