नई दिल्ली: दिल्ली सरकार ‘लॉकडाउन’ के कारण शहर में ऑटो रिक्शा, टैक्सी और ई-रिक्शा सहित सार्वजनिक परिवहन वाहनों के चालकों को पांच-पांच हजार रुपये की वित्तीय सहायता देगी. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बृहस्पतिवार को यह घोषणा की. केजरीवाल ने कहा कि सरकार इस कार्य को पूरा करने के तरीके के बारे में विचार कर रही है क्योंकि ऑटो रिक्शा, टैक्सी, ई-रिक्शा, ग्रामीण सेवा, आरटीवी जैसे सार्वजनिक परिवहन के वाहनों के चालकों के बैंक खाते उपलब्ध नहीं हैं. Also Read - देश के 19 राज्‍यों में कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की दर राष्‍ट्रीय औसत से बेहतर: केंद्र

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह सुनिश्चित करेंगे कि शहर में किसी को भी भूखा नहीं रहना पड़े और अगले सात-10 दिनों में सार्वजनिक परिवहन चालकों को वित्तीय सहायता मुहैया करायी जाएगी. उल्लेखनीय है कि दिल्ली सरकार ने शहर में 35,000 से अधिक निर्माण कामगारों को पांच-पांच हजार रुपये की सहायता मुहैया करायी है. मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया और देश कोरोना वायरस महामारी से प्रभावित है तथा इसके चलते गरीब सर्वाधिक प्रभावित हुए हैं. Also Read - Punjab Lockdown Extension News: जमावड़े पर लगी रोक, शादी समारोह में केवल इतने लोग होंगे शामिल

गौरतलब है कि देशभर में लॉकडाउन के कारण सभी जगहों पर ताले लग चुके हैं. ऐसे में छोटे मोटे काम कर घर चलाने वालों को आर्थिक तंगी से गुजरना पड़ रहा है. इससे पहले केजरीवाल ने बाहर राज्य के लोगों के मुफ्त रहने व उनके भोजन की व्यवस्था करने की बात कही थी. बता दें कि यह लॉकडाउन 14 अप्रैल तक रहने वाला है. कैबिनेट की तरफ से इस बाबत कहा गया है कि अभी लॉकडाउन को आगे बढ़ाने का कोई इरादा नहीं है.