नई दिल्ली: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान दिल्ली ने कोरोना वायरस प्रकोप के मद्देनजर छात्रों को रविवार तक छात्रावास छोड़ने के निर्देश दिए हैं. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान के एक आधिकारिक बयान में कहा कि कोविड-19 महामारी के बढ़ते खतरे के मद्देनजर प्रशासन ने निवारक उपाय के रूप में छात्रों को 15 मार्च, 2020 तक छात्रावास छोड़ने को कहा है. Also Read - COVID-19: गाजियाबाद में कोरोना के 10 नए मामले, जिले में संक्रमित लोगों की संख्या 23 हुई

छात्र मामलों के डीन राजेश खन्ना ने एक आधिकारिक बयान में कहा कि कोविड-19 महामारी के बढ़ते खतरे के मद्देनजर प्रशासन ने निवारक उपाय के रूप में छात्रों को 15 मार्च, 2020 तक छात्रावास छोड़ने को कहा है. उन्होंने कहा, ”हालांकि कमरे खाली करने की कोई आवश्यकता नहीं है. कृपया संबंधित छात्रावास के प्रवेश-निकास रजिस्टर और मेस भुगतान फॉर्म भरें. यह नालंदा और आईपी अपार्टमेंट्स में रहने वाले और कटवारिया सराय,जिया सराय के कैम्पस से बाहर के छात्रावासों पर लागू होता है.” Also Read - लॉकडाउन: दिल्ली में बिना राशन कार्ड वालों को भी मिलेगा 5 किलो राशन, केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला

संस्थान ने गुरुवार को 31 मार्च तक कक्षाओं और सभी आयोजनों को स्थगित करने की घोषणा की थी. खन्ना ने कहा, अगर शोधकार्य महत्वपूर्ण चरण में है तो पीएचडी छात्र छात्रावास में रह सकते हैं. परिसर में रहने वाले विदेशी छात्र भी रह सकते हैं. Also Read - प्रियंका गांधी ने योगी सरकार के लिए सुबह किया Tweet, शाम तक 26 हेल्थ वर्कर्स को फिर मिली नौकरी