#DelhiCollapse: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में एक बार फिर कोरोना संक्रमितों की संख्या और कोरोना से मरने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. ऐसे में दिल्ली सरकार को कई बार सुप्रीम कोर्ट द्वारा फटकार लगाई जा चुकी है. वहीं कोरोना महामारी को नियंत्रित करने के लिए कई जल्द से जल्द से योजनाओं पर काम करने को लेकर भी सवाल किया गया. लेकिन दिल्ली सरकार का तर्क है कि वायु प्रदूषण के कारण कोरोना महामारी ने फिर से रफ्तार पकड़ ली है. ऐसे में राजधानी दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामले वाकई चिंतित करने वाले हैं. इसी बाबत ट्विटर पर #DelhiCollapse को ट्रेंड कर रहा है. Also Read - AAP विधायक सोमनाथ भारती को 2 साल की सजा, मारपीट मामले में कोर्ट ने सुनाई सजा

इस ट्रेंडिंग कीवर्ड में विपक्षी दलों के नेता व सोशल मीडिया यूजर्स दिल्ली सरकार द्वारा कोरोना को काबू में न कर पाने को लेकर आलोचन कर रहे हैं व कई तरह की तस्वीरों को साझा किया जा रहा है. यहां बताया जा रहा है कि दिल्ली में लोगों की मौत हो रही है और सरकार प्रदूषण को दोष दे रही है. कांग्रेस पार्टी ने भी दिल्ली सरकार पर कोरोना को नियंत्रित करने पाने को लेकर निशाना साधा है. Also Read - बाइडेन सरकार का बड़ा फैसला, यूएस आने वाले हर नागरिक को कराना होगा कोविड की जांच और पृथक वास में रहना होगा जरूरी

बता दें राजधानी दिल्ली में शुरुआती दिनों में कोरोना ने काफी कहर ढाया लेकिन दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार के सामूहिक प्रयासों के कारण दिल्ली में कोरोना काफी हद तक नियंत्रण में आ चुका था. इस दिल्ली सरकार के मॉडल की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कई बार तारीफ की थी. दिल्ली में कोरोना के एक्टिव मामले लगभग 8 हजार पर ही सीमित हो गए थे. लेकिन कोरोना की तीसरी लहर ने पूरी तस्वीर बदलकर रख दी और अब माहौल ऐसा हो चुका है मानों दोबारा लॉकडाउन लगने वाला हो. Also Read - कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गईं शशिकला, विक्टोरिया हॉस्पिटल की गईं रिफर

विपक्षी पार्टियों व अन्य लोगों का कहना है कि दिल्ली में लोगों को ढिलाई देने के नाम पर कुछ ज्यादा ही राहत दे दी गई. भीड़-भाड़ वाले बाजारों को खोल दिया गया. लोगों को आने-जानें घूमने-फिरने की अनुमति दे दी गई. कहीं न कहीं इन कारणों से भी कोरोना के आंकड़ों में तेजी देखने को मिल रही है.