नई दिल्ली: स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलावर शाम  बताया कि देश में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या मंगलवार को बढ़कर 937 हो गई और संक्रमितों की तादाद 29,974 पर पहुंच गई. इनमें गत 24 घंटे में 1594 नए मामले सामने आए हैं और इस दौरान 51 मौतें हुई हैं. कुल मामलों में, 22,010 एक्टिव मामले हैं, 7026 लोग रिकवर हो गए हैं. वहीं 937 लोगों की इस महामारी से मौत हो गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़े के अनुसार, महाराष्ट्र इस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है, जहां कुल मामलों की संख्या 8,590 है, जिसके बाद गुजरात 3,548 और दिल्ली में 3,108 मामले हैं. Also Read - महाराष्ट्र में कोरोना के 2287 नए मामले सामने आए, 103 और मरीजों की मौत

इससे पहले दिन में स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, “पिछले एक दिन में देश में 1543 नए मामले आए हैं, जिससे कुल संक्रमित मामलों की संख्या 29435 हो गई है, सक्रिय मामलों की संख्या 21632 है.” स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 684 लोग ठीक हुए हैं, रिवकरी रेट 23.3 प्रतिशत हो गया है. Also Read - पाकिस्तान के लाहौर में कोरोना वायरस के 6,70,000 मामले! रिपोर्ट में चौकाने वाला दावा

लव अग्रवाल ने बताया कि देश में 17 ऐसे जिले हैं जहां पहले पॉजिटिव मामले मिले थे परन्तु पिछले 28 दिनों में कोई नया मामला सामने नहीं आया है. इसके अलावा उन्होंने कहा कि कोविड-19 के मामले दोगुने होने की दर अब 10.2 दिन है. Also Read - भारत में लगातार अच्छा हो रहा है कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट, मृत्यु दर घटकर 2.82% हुई: स्वास्थ्य मंत्रालय

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक प्लाज्मा थेरेपी का प्रयोग किया जा रहा है, हालांकि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि इसे उपचार के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है. मंत्रालय ने कहा कि इसके प्रभाव का अध्ययन करने के लिए ICMR द्वारा राष्ट्रीय स्तर का अध्ययन शुरू किया गया है.

लव अग्रवाल ने कहा, “जब तक ICMR अपना अध्ययन पूरा नहीं करता है और एक मजबूत वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं होता है, तब तक प्लाज्मा थेरेपी का उपयोग केवल रिसर्च या ट्रायल के उद्देश्य के लिए किया जाना चाहिए. यदि उचित गाइडलाइन के तहत प्लाज्मा थेरेपी का सही तरीके से उपयोग नहीं किया जाता है, तो यह जीवन के लिए खतरा पैदा कर सकता है.”