लखनऊ: पूरा देश इस कोरोना वायरस जैसी महामारी का सामना कर रहा है. इस भयानक बिमारी के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए केंद्र और राज्य सरकार लगातार कोशिशें कर रही हैं. धीरे धीरे देश के सभी राज्य में कोरोना के हॉटस्पॉट को तलाशा जा रहा है. इसी सिलसिले में अब उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार पिछले दो दिनों के दौरान राज्य में सामने आए कोरोना के 59 नए हॉटस्पॉट को सील करने का मन बना रही है. Also Read - Viral Video: महिला ने नहीं पहना मास्क, थूकने की कोशिश की, प्लेन से जबरन उतारा गया...

राज्य सरकार ने बुधवार को 15 जिलों में 133 कोरोनावायरस हॉटस्पॉट को सील कर दिया था और दूसरे चरण में 25 जिलों में 59 अन्य हॉटस्पॉट शामिल होंगे. अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह)अवनीश अवस्थी ने कहा कि लगभग 9 लाख की आबादी को कवर करने वाले कम से कम 1.4 लाख घर दूसरे चरण में कवर किए जाएंगे. Also Read - Covid 19 in India Update: कोरोना से 24 घंटे में 717 लोगों की मौत, 54 हजार नए मामले आए सामने

उन्होंने कहा, “दूसरे चरण का संचालन जिला अधिकारी अपने स्थानीय स्तर पर कर रहे हैं. मॉडल कोविड-19 पॉजिटिव रोगियों की पहचान करने, चिकित्सा सहायता प्रदान करने और क्षेत्र को सैनिटाजि करने की परिकल्पना के बारे में है.” अवस्थी ने कहा कि यूपी सरकार के हॉटस्पॉट मॉडल को पूरे देश में व्यापक रूप से सराहा जा रहा है. Also Read - Covid-19 Vaccine Update on 21 October 2020: पहले चरण में इन तीन करोड़ लोगों को दी जाएगी कोरोना की वैक्सीन

उन्होंने कहा, “लगभग 80 फीसदी मामले सिर्फ इन हॉटस्पॉट से सामने आ रहे हैं. सरकार ने 15 जिलों में चिह्न्ति 133 कोरोना हॉटस्पॉट में और सख्त कदम उठाने का फैसला किया है, जो 10 लाख से अधिक आबादी के साथ 1.57 लाख से अधिक घर कवर करते हैं.”

अवस्थी ने कहा कि सरकार 80 प्रतिशत से अधिक राशन कार्ड धारकों को घर-घर डिलीवरी के माध्यम से राशन मुहैया कराकर सामाजिक दूरी सुनिश्चित कर रही है.

उन्होंने कहा, “यह लगभग 2,000 धार्मिक संगठनों द्वारा 7 लाख से अधिक भोजन पैकेटों के वितरण और जिले के अधिकारियों द्वारा 4 लाख से अधिक भोजन पैकेटों के वितरण से इतर है.”

अवस्थी ने कहा कि गृह विभाग ने लॉकडाउन उल्लंघन मामले में 15,300 से अधिक एफआईआर दर्ज की हैं और कम से कम 48,500 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. बाद में उन्हें निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया. 2,100 से अधिक वाहनों को जब्त किया गया और उनके पास से समन शुल्क के रूप में 6 करोड़ रुपये से अधिक वसूले गए .

उन्होंने कहा कि जमाखोरी और कालाबाजारी के खिलाफ भी कार्रवाई की जा रही है. 484 लोगों के खिलाफ कम से कम 385 एफआईआर दर्ज की गई हैं. फर्जी खबरें भी हमारे संज्ञान में आई हैं और साइबर सेल जांच कर रहे हैं. पिछले 24 घंटों में, सरकार को 44 फर्जी खबरों की जानकारी मिली है.