Coronavirus Updates In India: देश में कोरोना का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है. भारत में कोरोना वायरस से 60 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं वहीं, अब तक 95 हजार से ज्यादा की मौत हो चुकी है. सोमवार सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय (Ministry Of Health) की तरफ से जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटों में देश में कोरोना के 82 हजार 170 नए मामले सामने आए और इस दौरान 1,039 लोग इस जानलेवा वायरस का शिकार बने हैं.Also Read - सरकार ने जरूरी 5 मेडिकल उपकरणों पर व्यापार मार्जिन सीमित किया, करीब 620 प्रोडक्‍ट के दाम घटे

Also Read - Rashtrapati Bhavan: एक अगस्त से आम लोगों के लिए खुल जाएगा राष्ट्रपति भवन, जानें टाइमिंग

इसके साथ ही देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 60,74,703 पहुंच गया है वही, अब तक 95,542 लोगों की मौत हो चुकी है. भारत में अभी फिलहाल 9,62,640 एक्टिव मामले हैं वहीं, 5,01,6521 लोग इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं. Also Read - Lockdown in Bangladesh: कोरोना के डेल्टा वेरिएंट ने बांग्लादेश में मचाई तबाही, लगा संपूर्ण लॉकडाउन

उधर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन (Dr Harsh Vardhan) ने कहा कि ICMR के दूसरे सीरो सर्वेक्षण से संकेत मिलता है कि भारत की आबादी कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के खिलाफ हर्ड इम्यूनिटी (Herd Immunity) क्षमता हासिल करने से दूर है, लिहाजा संक्रमण से निपटने के लिए दिशा-निर्देशों का पालन करने की जरूरत है.

एक बयान में बताया गया है कि अपने सोशल मीडिया फॉलोअर्स के साथ संवाद के दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) संक्रमण से ठीक हो चुके लोगों में पुनः संक्रमण की रिपोर्टों की जांच और शोध कर रहा है. हालांकि इस समय पुनः संक्रमण के मामलों की संख्या नगण्य है. सरकार इस मामले को पूरी गंभीरता से ले रही है.

उन्होंने कहा कि सीरो सर्वेक्षण की रिपोर्ट से लोगों में संतोष का भाव पैदा नहीं होना चाहिए. मई 2020 में हुए पहले सीरो सर्वेक्षण से पता चलता है कि कि कोरोनो वायरस संक्रमण का देशव्यापी प्रसार केवल 0.73% था. हर्षवर्धन ने कहा, ‘यहां तक कि जल्द ही जारी किए जाने वाले दूसरे सीरो सर्वेक्षण से संकेत मिलते हैं कि हम किसी भी प्रकार की हर्ड इम्यूनिटी की क्षमता हासिल करने से बहुत दूर हैं. ऐसे में आवश्यक है कि हम सभी को कोविड दिशानिर्देशों (Covid Guidelines) के अनुसार उचित व्यवहार का पालन करते रहना चाहिए.’

(इनपुट: एजेंसी)