नई दिल्ली: पूरा देश इस समय कोरोना वायरस की वजह से घरों में बंद है. इस महामारी के बढ़ते प्रकोप के कारण देशभर में लॉकडाउन का एलान कर दिया गया था जो अब तक जारी है. इस लॉकडाउन से जहां एक तरफ जनता थोड़ी परेशान है वहीं दूसरी तरफ राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में वायु प्रदूषण में लगातार सुधार देखने को मिल रहा है. वायु में जहरीली गैस नाइट्रोजन ऑक्साइड की 60 फीसदी की कमी आई है. शहर का समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) मंगलवार की 106 की तुलना में 88 पर और “संतोषजनक” श्रेणी में आया. Also Read - संयुक्त राष्ट्र का दिल्ली के वायु प्रदूषण पर बड़ा बयान, कहा- ये जानलेवा...

सिस्टम ऑफ एयर डिस्टर्बेंस एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (एसएएफएआर) के अनुसार, “पश्चिमी विक्षोभ के निकट आने के कारण आज और कल बारिश होने की उम्मीद है. अलग-थलग पड़ी आंधी से स्थानीय धूल उड़ सकती है.” यह भी सुझाव दिया कि समग्र एक्यूआई में सुधार की संभावना है. वहीं 9 और 10 अप्रैल को एक्यूसआई “संतोषजनक” श्रेणी में रहने का अनुमान है. Also Read - दिल्ली वालों को मिली थोड़ी राहत, प्रदुषण का स्तर हुआ कम, वायु गुणवत्ता अभी भी खराब 

हवा की गुणवत्ता पिछले सप्ताह “अच्छी” श्रेणी में थी, लेकिन 6 मार्च को कोरोनावायरस संकट के खिलाफ लड़ाई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लाइट बंद करने और दिए जलाकर “अंधेरे को चुनौती देने” की अपील की गई. इसमें हिस्सा लेने लोगों द्वारा पटाखे फोड़ने के बाद गुणवत्ता में गिरावट आई. Also Read - इन कारणों से दिवाली से पहले ही प्रदूषण के भेंट चढ़ गई राजधानी दिल्ली

इस बीच, पुणे, अहमदाबाद और मुंबई में एक्यूआई “संतोषजनक” श्रेणी में क्रमश: 58, 99 और 93 में पाया गया. देश भर में हवा की गुणवत्ता में सुधार के पीछे कारण वाहनों के आवागमन और उद्योगों से निकलने वाले उत्सर्जन में कमी है.