नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस के 3 लाख से अधिक मामले सामने आ चुका है. वहीं इससे हजारों लोगों की अब तक मौत हो चुकी है. कोरोना वायरस के लक्ष्णों की अगर बात करें तो इसके लक्ष्ण होते तो साधारण हैं लेकिन अगर इनका ध्यान नहीं दिया गया तो ये ज्यादा खतरनाक साबित होते जा रहे हैं. ऐसे में कोरोना वायरस के दो नए लक्ष्णों की पहचान की गई है. इन चीजों की अगर आपको शिकायत होती है तो आपको फौरन कोरोना टेस्ट कराना चाहिए. Also Read - इशांत शर्मा ने कहा- 2013 के बाद महेंद्र सिंह धोनी को अच्छे से समझ पाया था

क्या है लक्ष्ण? Also Read - देश में कोरोना के करीब 21 हजार नए केस, आंकड़ा 6.25 लाख के पार, 18 हजार से ज्‍यादा मौतें

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शनिवार को यह बताया गया कि कोरोना संक्रमित मरीजों को सूंघने और स्वाद की क्षमता खोना प्रमुख लक्ष्ण हैं. सामान्यतया इसे एनोस्मिया एगिसिया कहा जाता है. पहले तो स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसे कोरोना के लक्ष्णों के रूप में कोरोना की सूची में दर्ज नहीं किया था लेकिन अमेरिका में इस बाबत आयोजित एक बैठक के बाद इन दोनों लक्ष्णों को कोरोना लक्ष्णों की सूची में जोड़ दिया गया. Also Read - इन चीजों में पाई जाती है कोरोना वायरस से लड़ने की औषधीय क्षमता, जानिए पूरी डिटेल

बता दें कि रविवार 7 जून को अमेरिका में नेशनल टास्क फोर्स की बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि क्या इन लक्ष्णों को कोरोना सूची में रखा जाए, इन्हें कोरोना के लक्ष्ण माने जाए या नहीं. ऐसे में सेंटर फॉर डीजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) द्वारा इन दोनों लक्ष्णों को कोरोना के लक्ष्णों की सूची में जोड़ दिया गया. गौरतलब है कि इससे पहले कोरोना के लक्ष्णों में बुखार, खांसी, थकान, सांस लेने में दिक्कत, मांसपेशियों में दर्द और बलगम जैसे लक्ष्णों को जोड़ा गया है.

सीडीसी के आंकड़ो के अनुसार ऐसे कोरोना मरीजों की संख्या बहुत ज्यादा है जो संक्रमित होने के बाद अपनी सूंघने और स्वाद पहचानने की शक्ति को खो रहे हैं. ऐसे में अगर आपको भी ऐसी ही शिकायते हैं तो फौरन आपको डॉक्टर से मिलकर कोरोना टेस्ट कराना चाहिए.