नई दिल्‍ली: भारत में कोरोनावायरस के प्रकोप के मद्देनजर 31 मार्च तक सभी रेलवे परिचालन निलंबित रहेंगे. 31 मार्च तक किसी भी यात्री ट्रेन को संचालित करने की अनुमति नहीं दी जाएगी और अपनी यात्रा पूरी करने वाली ट्रेनों को प्वाइंट पर ही समाप्त कर दिया जाएगा. वहीं, 31 मार्च तक मुंबई की लाइफ लाइन कही जाने वाली मुंबई लोकल ट्रेनें भी बंद रहेंगी. Also Read - कोरोना के कारण मजदूरों का पलायन: कोर्ट ने तलब की रिपोर्ट, डर दहशत को बताया वायरस से भी बड़ी समस्या

भारतीय रेलवे ने कहा कि 22 मार्च की आधी रात से 31 मार्च तक केवल मालगाड़ियां ही चलेंगी. Also Read - Covid-19: निजामुद्दीन के मरकज में सैंकड़ों कोरोना संदिग्ध, दिल्ली सरकार ने दिया मौलाना पर FIR दर्ज करने का आदेश

रेलवे ने अप्रत्याशित कदम उठाते हुए अपनी सभी यात्री सेवाएं 22 मार्च की आधी रात से 31 मार्च की आधी रात तक बंद रखने की रविवार को घोषणा की. रेलवे ने कहा कि इस अवधि में केवल मालगाड़ियां चलेंगी. Also Read - COVID-19 से दुनिया में मौतों का आंकड़ा 34,610, संक्रमण के 7 लाख 27 हजार से ज्‍यादा केस

रेलवे ने अपनी कई ट्रेनें रद्द करके शुक्रवार को ही अपनी सेवाओं में कटौती कर दी थी, लेकिन उसने उन ट्रेनों को यात्रा जारी रखने की अनुमति दे दी थी जो पहले ही अपनी यात्रा शुरू कर चुकी थीं. रेलवे के नए आदेश के अनुसार 22 मार्च की आधी रात से 31 मार्च की आधी रात तक केवल मालगाड़ियां चलेंगी.

भारतीय रेलवे के एक प्रवक्ता ने कहा, ”बेहद न्यूनतम उपनगरीय सेवाएं और कोलकाता मेट्रो रेल सेवा 22 मार्च की आधी रात तक जारी रहेगी। इसके बाद ये सेवाएं भी 31 मार्च की आधी रात तक बंद रहेंगी.”

 

रेलवे ने पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिए गए जनता कर्फ्यू कॉल का समर्थन करने के लिए आज के दिन सभी यात्री ट्रेनों को रद्द करने का फैसला किया था. रेल मंत्रालय ने कहा था कि यह निर्णय इस तथ्य के मद्देनजर लिया गया था कि रेल यात्रा की मांग जनता के कर्फ्यू के दौरान काफी कम हो जाएगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में लोगों से 22 मार्च को सुबह 7:00 बजे से रात 9:00 बजे तक “जनता कर्फ्यू” देखने का आग्रह किया. जनता कर्फ्यू के तहत, पीएम ने लोगों से सार्वजनिक स्थानों से दूर रहने और अपने घरों में खुद को अलग-थलग करने की अपील की है.

भारतीय रेलवे के अनुसार, कोलकाता मेट्रो सेवा सहित न्यूनतम उपनगरीय सेवाएं 22 मार्च मध्यरात्रि तक जारी रहेंगी. इसके बाद, सेवाएं 31 मार्च की मध्यरात्रि तक रुक जाएंगी. इस पर अंतिम निर्णय आज रेलवे बोर्ड की बैठक के दौरान लिया जाएगा.