नई दिल्ली: कोरोना वायरस से फिलहाल पूरी दुनिया जूझ रही है. भारत में भी कोरोना अपने पैर पसारने में लगा हुआ है. ऐसे में कोरोना की चुनौती से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ चुनिंदा केंद्रीय मंत्रियों को जिम्मेदारी सौंपी है. उन्हें अलग-अलग राज्यों के मोर्चे पर लगाया है. केंद्रीय मंत्रियों को हर दिन राज्य में कोराना से जुड़ी रिपोर्ट पीएमओ को देनी होगी. Also Read - Coronavirus in Delhi: दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के 7,897 नए मामले सामने आए, 39 रोगियों की मौत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबसे ज्यादा चार केंद्रीय मंत्रियों की ड्यूटी उत्तर प्रदेश के लिए लगाई है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, महेंद्रनाथ पांडेय, कृष्णपाल गुर्जर और संजीव बालयान को उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी दी है. इसी तरह गजेंद्र सिंह शेखावत को राजस्थान और पंजाब की जिम्मेदारी दी है. वहीं जनरल वीके सिंह को असम, रविशंकर प्रसाद और रामविलास पासवान को बिहार, धमर्ंेद्र प्रधान को ओडिशा, छत्तीसगढ़ अर्जुन मुंडा व झारखंड की मुख्तार अब्बास नकवी को जिम्मेदारी दी है. इसी तरह नितिन गडकरी और प्रकाश जावड़ेकर को महाराष्ट्र की जिम्मेदारी दी गई है. Also Read - कोरोना संकट का असर, हरियाणा रोडवेज की बसों के उत्तराखंड में प्रवेश करने पर रोक

पीएमओ सूत्रों ने बताया कि सभी मंत्रियों को राज्य में कोरोना वायरस के संक्रमण, अपडेट और बचाव आदि की रिपोर्ट रोजाना देनी होगी. प्रधानमंत्री मोदी का मानना है कि केंद्रीय मंत्रियों को राज्यवार जिम्मेदारी सौंपे जाने से राज्यों में कोरोना से बचाव कार्य में और तेजी आएगी. केंद्रीय मंत्रियों की ओर से संबंधित राज्यों के मुख्यंत्रियों से समन्वयक बनाकर राहत कार्यों का आसानी से संचालन किया जा सकेगा. Also Read - पंजाब को रोकनी पड़ सकती है वैक्सीनेशन ड्राइव, CM अमरिंदर ने लिखा PM और HM को पत्र