Coronavirus vaccine news update: भारत सहित दुनिया के तमाम देशों के वैज्ञानिक कोरोनावायरस के टीके को विकसित करने में लगे हुए हैं. इसमें भारत और कई अन्य देशों के वैज्ञानिकों को बड़ी सफलता मिलती दिख रही है. अब तक विकसित टीके का अंतिम चरण का ट्रायल चल रहा है. इनमें सबसे आगे है ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (oxford corona vaccine) की टीका. इस टीके का अंतिम चरण का ह्यूमन ट्रायल चल रहा है. Also Read - Coronavirus Cases In Karnataka: कोरोना की चपेट में कर्नाटक, एक्टिव मामलों की संख्या दिल्ली से अधिक

इसी कड़ी में इंपीरियल कॉलेज लंदन के वैज्ञानिकों ने भी एक टीका विकसित करने का दावा किया है. उनका कहना है कि वे कोरोना वायरस से प्रतिरक्षण के लिए सैकड़ों लोगों को प्रयोग्यात्मक टीका लगाएंगे. टीके के अभी तक के परीक्षणों में इसके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक ना होने की बात सामने आने के बाद यह कदम उठाया जा रहा है. Also Read - Maharashtra Covid-19 Update: महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 12,248 नए मामले, 390 लोगों की मौत

कॉलेज के प्रोफेसर डॉ. रॉबिन शैट्टॉक ने बताया कि उन्होंने और उनके सहकर्मियों ने टीके की कम खुराक पहले कुछ लोगों को दी, जिसके बाद अब वे करीब 300 लोगों को यह टीका लगाएंगे. उन लोगों में से कुछ की उम्र 75 साल से अधिक है. Also Read - फिलहाल बंद रहेंगे स्कूल, अभिभावकों की ली जाएगी राय; शिक्षा मंत्री बोले- गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस के अनुसार निर्णय लेंगे

उन्होंने कहा कि इसका कोई हानिकारक प्रभाव नहीं है. इंपीरियल में टीके संबंधी अनुसंधान का नेतृत्व कर रहे शैट्टॉक ने कहा कि हम अब भी इस पर अध्ययन कर रहे हैं. वह अक्टूबर में कई हजार लोगों को टीका लगाने के लिए पर्याप्त सुरक्षा डेटा हासिल करना चाहते हैं.

शैट्टॉक ने कहा कि ब्रिटेन में कोविड-19 के मामलों में अचानक से कमी आने के कारण, टीका काम करेगा या नहीं इसका यहां पता लगाना मुश्किल हो गया है, इसलिए वह और उनका दल अब कहीं और टीके का परीक्षण करेगा.

(इनपुट भाषा)