Coronavirus Vaccine Price: कोरोना वायरस वैक्सीन बनाने वाली देश की दो प्रमुख कंपनियों द्वारा टीके के दाम कथित तौर पर अधिक रखने को लेकर चौतरफा दबाव के बीच केंद्र सरकार हरकत में आ गई है. सूत्रों के मुताबिक केंद्र सरकार ने सोमवार को सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक से कहा कि वे अपने कोविड-19 टीकों की कीमत कम करें. सरकार ने इन दोनों कंपनियों को टीकों के दाम कम करने के लिए ऐसे समय कहा है जब विभिन्न राज्यों ने आलोचना करते हुए ऐसे बड़े संकट के दौरान मुनाफाखोरी पर आपत्ति जताई है.Also Read - इजराइल में घूमिये ये 10 खूबसूरत जगहें, टूरिस्टों को अब नहीं कराना होगा RT-PCR टेस्ट

कैबिनेट सचिव राजीव गौबा की अध्यक्षता में हुई बैठक में टीके मूल्य निर्धारण के मुद्दे पर चर्चा की गई. अब उम्मीद है कि दोनों कंपनियां अपने टीकों के लिए संशोधित मूल्य निर्धारण के साथ सामने आएंगी. Also Read - भारत में Omicron के सब वेरिएंट BA.5 के एक और मरीज की पुष्टि, दक्षिण अफ्रीका से वडोदरा आया था शख्स

हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक ने अपने कोविड-19 टीके कोवैक्सिन की कीमत राज्य सरकारों के लिए 600 रुपये प्रति खुराक और निजी अस्पतालों के लिए 1,200 रुपये प्रति खुराक निर्धारित की है. Also Read - सऊदी अरब में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले, भारत समेत इन देशों में यात्रा करने पर लगा प्रतिबंध

वहीं पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) ने अपने कोविड-19 टीके ‘कोविशिल्ड’ की राज्य सरकारों के लिए कीमत 400 रुपये प्रति खुराक घोषित की है और निजी अस्पतालों के लिए 600 रुपये प्रति खुराक घोषित की है.

दोनों टीके 150 रुपये प्रति खुराक की दर से केंद्र सरकार को उपलब्ध हैं. कई राज्यों ने टीकों की अलग-अलग कीमतों पर आपत्ति जताई है, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि यह मुनाफाखोरी का समय नहीं है. भारत ने अपने कोविड-19 टीकाकरण अभियान के विस्तार की घोषणा की है ताकि एक मई से 18 वर्ष से अधिक आयु के लोग टीका लगवा सकें.