Coronavirus Vaccine Updates: देश में अपातकालीन कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी गई है. ऐसे में लोगों के मन में सवाल उठना लाजमी है. लोगों के मन में ऐसे कई सवाल होंगे जिनके जवाब उनके पास नहीं है, ऐसे में हम आपको उन सभी सवालों के जवाब देने वाले हैं जो अमूमन हर किसी के मन में वैक्सीन को लेकर उठ रहे होंगे.Also Read - CoronaVaccine News: कोरोना टीका लगवाने पर यहां मिल रहा बंपर इनाम, नहीं लगवाने पर कहीं मिल सकती है सजा, जानिए

वैक्सीन बाजार में कब आएगा? (When Coronavirus Vacine Available In Market) Also Read - Big News! कोरोना वैक्सीन नहीं लेने वालों पर लगने जा रहा प्रतिबंध? सिनेमाघर, मेट्रो, बस इत्यादि में प्रवेश होगा निषेध

खबरों के और विशेषज्ञों के मुताबिक केंद्र सरकार राज्यों के हिसाब से अलग अलग टीके लगवाएगी. कुछ राज्यों में सीरम पुणे द्वारा निर्मित टीके का इस्तेमाल किया जाएगा तो वहीं कुछ राज्यों में भारत बायोटेक के वैक्सीन का इस्तेमाल किया जाएगा. बता दें कि इस दौरान हर व्यक्ति के हिसाब से यह दर्ज किया जाएगा कि किसे कौन सा टीका लगाया गया है. बता दें कि सरकार फिलहाल दोनों ही टीकों को खरीद रही है, इनका इस्तेमाल पहली कतार के लोगों के लिए किया जाएगा. जून महीने तक पहली कतार के 30 करोड़ लोगों तक इस वैक्सीन को पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है. इस काम के पूरा होने के बाद ही सरकार भारतीय बाजार में टीके की बिक्री को अनुमति देगी. Also Read - दक्षिण अफ्रीका के सभी राज्यों में फैला Omicron, राष्ट्रपति ने दी चौथी लहर की चेतावनी

क्या अन्य वैक्सीनों को मिलेगी मंजूरी (pfizer, Sputnik-V, Moderna Vaccine)

विशेषज्ञों की मानें तो इन वैक्सीन को भी देश में इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी जा सकती है. भारत में वैक्सीन के इस्तेमाल के लिए रूसी वैक्सीन स्पूतनिक V का ट्रायल चल रहा है वहीं फाइजर ने वैक्सीन के इस्तेमाल के लिए आवेदन किया है. बता दें कि क कैडिला और दुनियाभर के कई अन्य वैक्सीनों को भी तैयार किया जा रहा है जो अभी ट्रायल फेज में हैं. हो सकता है कि इन वैक्सीनों के इस्तेमाल को भी मंजूरी दे दी जाए.

इतने सारे टीके क्यों? (Why MultiplE Vaccines)

बता दें कि ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि अगर भारत में कई टीकों को मंजूरी दी जाएगी तो इससे देश में वैक्सीन के उत्पादन की क्षमता बढ़ेगी और यह लोगों तक और भी आसानी से उपलब्ध हो पाएगा और लोग खुद वैक्सीन को खरीदकर लगा पाएंगे.

कितनी होगी कीमत (Coronavirus Vaccine Price?)

बता दें कि अगर भारतीय कंपनी द्वारा निर्मित टीकों का इस्तेमाल किया जाता है तो इसकी कीमत अमूमन विदेशी निर्मित टीकों से कम होगी. हालांकि यह इसपर भी निर्भर करता है कि बाजार में कितने टीके हैं.

आपातकालीन इस्तेमाल क्या है?

किसी भी वैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल का मतलब है कि इस टीकाकरण की पूरी प्रक्रिया मेडिकल व डॉक्टरी निगरानी में की जाएगी. इसके अच्छे व बुरे परिणामों पर भी चिकित्सकों द्वारा नजर रखा जाएगा. बता दें कि किसी भी वैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल से पहले यह पुष्टि की जाती है कि क्या वह वैक्सीन प्रभावी है या नहीं. तभी जाकर वैक्सीन को आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दी जाती है. अगर कभी इस्तेमाल किए जा रहे वैक्सीन से बेहतर विकल्प कुछ मिलता है तो आपातकालीन वाली वैक्सीन की मंजूरी को वापस लिया जा सकता है. वहीं अगर आपातकालीन इस्तेमाल के दौरान टीककरण सफल रहता है तो इसे अंतिम मंजूरी दी जा सकती है. ताकि सभी लोगों तक वैक्सीन को पहुंचाया जा सके.

भारत में कितने टीके? (How Much Vaccine In India)

बता दें कि देश में कुल 9 कोरोना वायरस वैक्सीन पर काम किया जा रहा है. इसमें से 2 टीकों को आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी गई है और 7 वैक्सीन अलग अलग ट्रायल चरणों में हैं.

क्या मुफ्त होगा टीकाकरण? (Coronavirus Vaccine Is free?)

बता दें कि अभी क एक करोड़ स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और दो करोड़ फ्रंटलाइन वर्करों को ही केंद्र सरकार द्वारा मुफ्त वैक्सीन मुहैया कराया जाएगा. वहीं अन्य 27 करोड़ लोग जिनकों जून महीने तक वैक्सीन के शॉट देने का लक्ष्य रखा गया है उनको लेकर अभी तक किसी प्रकार का निर्णय नहीं लिया गया है. हालांकि अगर राज्य सरकार चाहे तो ऐसे लोगों को मुफ्त में टीका उपलब्ध करवा सकती है.