नई दिल्ली:  भारतीय रेल के इतिहास में शायद पहली बार ऐसा मौका हुआ जब फूलों से सजी एक ट्रेन में एक युगल विवाह के पवित्र बंधन में बंध गया. इस विवाह को आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर ने विधिवत सम्पन्न कराया. आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक रविशंकर की संस्था की ओर से जारी एक वीडियो संदेश में उन्होंने कहा कि फार्मासिस्ट सचिन कुमार एवं कर विभाग की कर्मचारी ज्योत्सना सिंह पटेल कल उत्तर प्रदेश के गोरखपुर एवं लखनऊ के आस पास परिणय सूत्र में बंधे. Also Read - पड़ोसी लड़की से ये कैसा प्‍यार, मर्डर कर जलाई लाश फिर खुद ही ट्रेन से कटकर कर ली खुदकुशी

इसमें कहा गया कि विवाह का यह बेहद आसान तरीका है. मैं हर किसी को यह संदेश देना चाहता हूं कि विवाह बहुत साधारण तरीके से होना चाहिए और लोगों को इसके लिये कर्ज लेने या लाखों रुपये खर्च करने की कोई जरूरत नहीं है. Also Read - Mumbai Rains latest Updates: मुंबई में झमाझम बारिश से बिगड़े हालात, दोपहर में हाई टाइड का अलर्ट

उत्तर प्रदेश के कौशांबी स्थित उधनी खुर्द गांव के रहने वाले कुमार भदोही में काम करते हैं, जबकि ज्योत्सना केंद्रीय कर विभाग में काम करती हैं. विशेष ट्रेन पर हुए विवाह को विधिवत रवि शंकर ने सम्पन्न कराया. इसी ट्रेन से रविशंकर समूचे उत्तर प्रदेश की यात्रा पर निकले हुए हैं. Also Read - Irctc Indian Railways: रेलवे अपने नेटवर्क का कर रहा विस्तार, इन राज्यों की राजधानियों को जोड़ने की है योजना

अभी यह साफ नहीं है कि नवविवाहित दंपति आर्ट ऑफ लिविंग गुरु की मंडली या उनके अनुयायियों का हिस्सा हैं. बहरहाल यात्रा के दौरान श्री श्री के अनुयायियों ने नवविवाहित दंपति को शुभकामनाएं दीं.

रविशंकर के एक अनुयायी ने प्रधानमंत्री के साथ साथ रेल मंत्री को टैग करते हुए ट्वीट किया कि भारतीय रेल के इतिहास में संभवत: यह पहला मौका है जब ट्रेन में सफर के दौरान विधिवत विवाह सम्पन्न हुआ! गुरुदेव श्री श्री की मौजूदगी में ज्योत्सना और सचिन परिणय सूत्र में बंध गए.

सोशल नेटवर्किंग साइट पर विवाहित जोड़े की फूल मालाएं पहनी कई तस्वीरें भी पोस्ट की गई हैं.