श्रावस्ती: लंबे समय से चल रहे अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद पर श्रीश्री रविशंकर ने एक बयान देकर मामले को फिर से ताजा कर दिया है. दरअसल रविशंकर ने कहा कि इस विवाद का हल कोर्ट से नहीं आपसी बातचीत से ही निकलेगा. आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर का कहना है कि अयोध्या में राम मंदिर ही बनेगा. Also Read - पति को धोखा देना पत्नी को पड़ा महंगा, कोर्ट ने लगाया भारी जुर्माना, हुआ तलाक

श्रीश्री ने बुधवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए वार्ता चल रही है. अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण अवश्य होगा. तीन दिन के यूपी के एक आध्यातमिक दौरे पर आए रविशंकर ने कहा कि कोई अच्छा काम करेंगे तो उसमें दिक्कतें आती तो हैं लेकिन इससे हटेंगे नहीं हम. काम आगे बढ़ता रहेगा. अच्छी प्रगति हो रही है. सबके साथ हमारा संबंध अच्छा है. Also Read - पत्नी का अपने ब्वॉयफ्रेंड के साथ था अवैध संबंध, पति ने की जासूसी तो कोर्ट ने महिला पर लगाया लाखों का जुर्माना

उन्होंने कहा कि कोर्ट से राम जन्मभूमि विवाद का कोई हल नहीं निकल सकता. क्योंकि कोर्ट के फैसले से किसी एक पक्ष को हार स्वीकार करनी पड़ेगी, जो पक्ष हारेगा, वो अभी तो मान जायेगा लेकिन कुछ समय बाद फिर बवाल शुरू हो जायेगा. उन्होंने कहा कि शीघ्र ही सौहार्दपूर्ण माहौल में कोर्ट के बाहर विवाद हल होने की पूरी उम्मीद है. Also Read - राम मंदिर का भूमि पूजन करते हुए PM मोदी को देखकर मां हीराबेन हुईं भावुक, हाथ जोड़े देख रहीं थींं TV

इसके बाद वह श्रावस्ती पहुंचे, जहां बौद्ध भिक्षुओं ने श्री श्री का स्वागत किया. श्रीश्री ने श्रावस्ती स्थित बौद्ध मंदिर और स्तूप का भ्रमण किया. बौद्धकालीन स्मारकों के संरक्षण और रखरखाव पर वे प्रसन्न दिखे.