नई दिल्ली: आम आदमी सरकार में कानून मंत्री रहे एमएलए सोमनाथ भारती पर राजधानी दिल्ली की पटियाला कोर्ट ने अफ्रीकी मूल की महिला से छेड़छाड़ करने, घर में जबरन घुसने का आरोप तय कर दिया है. ये मामला दिल्ली के खिड़की एक्सटेंशन में साल 2014 में मध्यरात्रि में की गई छापेमारी की घटना के सिलसिले का है. दिल्ली के पूर्व विधि मंत्री सोमनाथ भारती के खिलाफ छेड़खानी का आरोप तय करने का आदेश देते हुए अदालत ने सवाल किया कि किस आधिकारिक कर्तव्य ने आप नेता को लाचार अफ्रीकी महिलाओं पर हमला करने के लिए प्रेरित किया. कोर्ट ने इस मामले में 17 लोगों पर आरोप तय कर दिए. Also Read - दिल्ली दंगे को उकसाने में नेताओं की भूमिका का कोई सबूत नहीं: दिल्ली पुलिस

वहीं पूर्व मंत्री ने ट्वीट कर कहा, ” खिड़की में नशीली दवाओं के मानव तस्करी के खिलाफ मेरी लड़ाई में चार्ज ऑर्डर तैयार करने के लिए मीडिया में दोस्तों द्वारा 4 प्रतिक्रियाओं से मुझे पूछा जा रहा है. मुझे अभी आदेश प्राप्त हुआ है, मेरे वकील एक ही पढ़ रहे हैं और मैं उनके इनपुट प्राप्त करने के बाद विवरण में जवाब दूंगा. मेरी लड़ाई जारी रहेगी!” Also Read - दिल्ली दंगों के आरोपी ताहिर हुसैन के 6 ठिकानों पर ईडी के छापे, मनी लॉन्ड्रिंग का चल रहा मामला

यह आदेश अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल ने दिया. उन्होंने कहा, ” पहली नजर में सभी आरोपियों के खिलाफ आरोप तय करने की दिशा में आगे बढ़ने के लिए मामला बनता है.” कोर्ट ने पूर्व मंत्री भारती और 16 अन्य के खिलाफ आईपीसी के तहत छेड़खानी, हमला, धमकी, शत्रुता फैलाने, बलवा और अन्य अपराधों के लिए आरोप तय करने का आदेश दिया. इससे पहले सोमनाथ भारती ने इस मामले की दोबारा जांच कराने के लिए दो बार अर्जी कोर्ट में दी थी लेकिन अदालत ने मामले की दोबारा जांच कराने की अर्जी पहले ही खारिज कर दी थी.

यूगांडा की एक महिला की शिकायत पर अदालत के निर्देश पर 18 जनवरी 2014 को पुलिस ने भारती और अन्य लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी. उस महिला ने घटना के सिलसिले में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग की थी. (इनपुट- एजेंसी)