नई दिल्ली: अदालत शाहीन बाग में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ जारी प्रदर्शन के संबंध में विवादि‍त भाषण देने वाले केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर और उनके भाजपा सहयोगी एवं सांसद प्रवेश वर्मा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाए या नहीं इस संबंध में दो मार्च को फैसला सुनाएगी. माकपा नेता वृंदा करात ने इनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है. Also Read - Covid 19 लॉकडाउन के बीच रात में 40 लोगों ने ग्रुप में मस्जिद में नमाज अदा की, FIR दर्ज

दिल्ली पुलिस ने अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट विशाल पाहुजा से कहा कि ठाकुर और वर्मा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के लिए प्रथम दृष्टया कोई संज्ञेय अपराध नहीं मिला. पुलिस ने इसकी कार्रवाई रिपोर्ट दायर करने के लिए अदालत से और समय भी मांगा. उसने कहा कि मामले पर कानूनी सलाह ली जा रही है. Also Read - दिल्ली में बढ़ेगी लॉकडाउन की अवधि! डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कही ये बात

बीजेपी सासंद प्रवेश वर्मा ने 28 जनकारी को कहा था कि कश्मीर में जो कश्मीरी पंडितों के साथ हुआ वह दिल्ली में भी हो सकता है. साथ ही चेताया था कि शाहीन बाग में सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लाखों लोग घरों में घुस कर लोगों की हत्या और महिलाओं के साथ बलात्कार कर सकते हैं. Also Read - COVID19: दिल्‍ली में 51 नए मामलों के साथ अबतक 720 मामले, कुल 12 मरीजों की मौत