COVAXIN For Child: वयस्कों के टीकाकरण के बाद अब देश में 2 से 18 साल तक के बच्चों के लिए भी टीकाकरण का रास्ता साफ होता दिख रहा है. वैक्सीनेशन से जुड़ी सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी (SEC) ने भारत बायोटेक की कोवैक्सीन (Covaxin) को 2 से 18 साल के बच्चों के लिए सिफारिश की है. हालांकि अब इसे ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया यानी DCGI की मंजूरी का इंतजार है. विशेषज्ञ पैनल की मंजूरी के बाद अब दवा नियामक अंतिम रूप से इस पर फैसला लेगा.Also Read - Special Vaccine Drive: महाराष्ट्र के कॉलेजों में भी 25 अक्टूबर से 2 नवंबर के बीच चलेगी वैक्सीन की स्पेशल ड्राइव

सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी द्वारा 2 से 18 साल की आयु के बच्चों के लिए भारत बायोटेक के COVID-19 वैक्सीन COVAXIN की सिफारिश के कुछ घंटों बाद स्वास्थ्य राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार ने स्पष्ट किया कि मूल्यांकन अब भी जारी है. उन्होंने कहा, ‘कुछ भ्रम है और विशेषज्ञों की समिति के साथ बातचीत चल रही है. अब तक ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने इसे मंजूरी नहीं दी है. उन्होंने कहा कि अभी काम चल रहा है. विशेषज्ञ निर्णय लेंगे उसके बाद वैक्सीन आएगी. प्रक्रिया चल रही है और हम उसमें हस्तक्षेप नहीं करते हैं. Also Read - COVID टास्क फोर्स के चीफ ने बताया, 'जल्द ही बच्चों के लिए हमारे पास दो वैक्सीन होंगी, अगर...'

Also Read - टीके की दोनों खुराक लगवा चुके विदेशी यात्रियों को आठ नवंबर से प्रवेश की अनुमति देगा अमेरिका

मालूम हो कि एक्सपर्ट कमेटी वैक्सीन के ट्रायल के निष्कर्षों का वैज्ञानिक परीक्षण करती है. वो तमाम राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर इसकी सिफारिश करती है. इसके बाद दवा नियामक अगर इस पर मुहर लगा देता है तो टीके को आपात इस्तेमाल के तहत मंजूरी मिल जाती है. अगर दवा नियामक की तरफ से मंजूरी मिल जाती है तो जल्द ही देश में बच्चों के टीकाकरण की राह खुल जाएगी.

इससे पहले भारत बायोटेक ने एक बयान में कहा, ‘दो से 18 वर्ष के आयु वर्ग के लिए दी गई कोविड-19 टीकों की यह पहली मंजूरी है. भारत बायोटेक डीसीजीआई, विषय विशेषज्ञ समिति और सीडीएससीओ को उनके द्वारा तेजी से समीक्षा करने के लिए धन्यवाद देता है. अब हम उत्पाद को पेश करने से पहले सीडीएससीओ से और नियामक मंजूरी मिलने का इंतजार कर रहे हैं. इसके बाद बच्चों के लिए बाजार में कोवैक्सिन उपलब्ध होगी.’ भारत बायोटेक ने कहा कि कंपनी ने दो से 18 आयु वर्ग के लिए क्लिनिकल ट्रायल के आंकड़े सीडीएससीओ को सौंपे. इन आंकड़ों की सीडीएससीओ और एसईसी ने गहन समीक्षा की और अपने सकारात्मक सुझाव दिए.

बता दें कि देश में फिलहाल 18 साल से ऊपर के लोगों को कोरोना रोधी वैक्सीन लगाई जा रही है. भारत में फिलहाल कोविशील्ड, कोवैक्सीन और रूसी स्पुतनिक वी टीके का इस्तेमाल किया जा रहा है. कुछ और वैक्सीन कंपनियां परीक्षण के अलग-अलग दौर में हैं. उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही कोरोना से वार के लिए कुछ और वैक्सीन तैयार हो जाएंगी.

(इनपुट: ANI)