COVID-19, Tamil Nadu, Chennai, Tamil Nadu, Masjid, quarantine centre, News: देश में कोरोना वायरस संक्रमण की महामारी से जूझ रहे धार्मिक संस्‍थान लोगों की मदद के लिए कई तरह से मदद के लिए आगे आ रहे हैं. गुरुद्वारा, मंदिर ट्रस्‍ट, मस्‍जिद भी सामने आ रहे हैं. भारत के दक्षिण राज्‍य तमिलनाडु की राजधानी में कुछ ऐसा ही देखने को मिल रहा है. चेन्‍नई के अन्‍ना नगर की यह मस्जिद जावेद है, जिसे क्‍वारंटीन सेंटर के रूप में तब्‍दील कर दिया गया है. यह मस्जिद जावेद उन लोगों के लिए क्‍वारंटीन सेंटर बनाई गई है, जो कोरोना निगेटिव हैं, लेकिन उन्‍हें क्‍वारंटीन रहने की जरूरत है. Also Read - मशहूर मलयालम गीतकार Poovachal Khader का कोविड से निधन

तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई के अन्ना नगर में स्थित मस्जिद जावेद ने उन लोगों के लिए एक संगरोध केंद्र खोला गया है, जो COVID19 नकारात्मक हैं, लेकिन कुछ दिनों के लिए संगरोध में रहने के लिए जगह की आवश्यकता होती है. Also Read - Coronavirus Cases In India: 1 दिन में 42 हजार से अधिक लोग हुए कोरोना संक्रमण का शिकार, 1,167 लोगों की हुई मौत

तमिलनाडु में कोविड-19 के अब तक के सर्वाधिक 29,272 नए मामले आए
तमिलनाडु में मंगलवार को कोविड-19 के अब तक के सर्वाधिक 29,272 नए मामले सामने आए, जिससे राज्य में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 14,38,509 हो गए, जबकि पिछले 24 घंटों में 298 मौतें होने से मृतकों की संख्या बढ़कर 16,178 हो गई. एक मेडिकल बुलेटिन के अनुसार, 19,182 लोगों को मंगलवार छुट्टी दे दी गई, जिससे राज्य में अब तक ठीक हो चुके लोगों की संख्या बढ़कर 12,60,150 तक पहुंच गई। राज्य में अब 1,62,181 मरीजों का इलाज चल रहा है. नए संक्रमणों में वृद्धि के मद्देनजर, मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने आम जनता और उद्योगों से अपील की कि वे खतरनाक महामारी से लड़ने के लिए मुख्यमंत्री जन राहत कोष में दान करें. राज्य की राजधानी में संक्रमण के 7,466 नए मामले आए हैं, जिससे यहां अब तक आए मामलों की संख्या 4,04,733 हो गई है. इससे पहले दिन में, मुख्यमंत्री ने शहर के मीनांबक्कम में ए एम जैन कॉलेज में एक सिद्ध कोविड-19 देखभाल केंद्र का उद्घाटन किया. राज्य भर में 14 ऐसे केंद्र स्थापित करने की स्वास्थ्य विभाग की योजना के तहत इसकी स्थापना की गई है.

कोविड-19 मरीजों को ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए ऑटो बनी एंबुलेंस
देश में कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान मेडिकल ऑक्सीजन की बढ़ी मांग के बीच लोगों को अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन की सुविधा मिलने में दिक्कतें आ रही है, ऐसे समय चेन्नई का एक एनजीओ अस्थायी एंबुलेंस के जरिए जरूरतमंद लोगों को जीवन रक्षक गैस की आपूर्ति कर रहा है. इस आपात ऑटो एंबुलेंस का इस्तेमाल घर पर पृथक-वास में रह रहे उन मरीजों के लिए भी किया जा रहा है, जिन्हें इसकी सख्त जरूरत है. ‘कदामाई एजुकेशनल एंड सोशल वेलफेयर ट्रस्ट’नए तरह का ऑटो एंबुलेंस चला रहा है। शहर के उत्तरी हिस्सों में इसका दायरा भले ही बेहद सीमित हो लेकिन सेवा के तरीकों को लेकर इसकी मांग में जबरदस्त इजाफा हुआ है. ट्रस्ट के शिक्षा विभाग के प्रमुख टी सी कुमारस्वामी ने बताया, उत्तरी चेन्नई के इलाके में लोगों को 24 घंटे ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए हमने दो ऑटो में 47 लीटर की क्षमता वाले दो सिलेंडर फिट किए हैं. हम जो क्लिनिक चलाते हैं, वहां से एक बड़ा ऑक्सीजन सिलेंडर लिया है और एक सिलेंडर हमें औद्योगिक कंपनी से मिला है. ये आपात ऑटो एंबुलेंस अलग अलग शिफ्ट में छह लोग चलाते हैं, जो फोन आने पर ऑक्सीजन की मदद मांगने वाले मरीजों तक तुरंत पहुंचते हैं. कुमारस्वामी ने कहा, ”वर्तमान में हमलोग सिर्फ उत्तर चेन्नई में 15 किलोमीटर के दायरे में इसका संचालन कर रहे हैं और फोन पर ऑक्सीजन की मांग करने वाले लोगों को हम निराश नहीं करते हैं. औसतन ट्रस्ट को रोजाना करीब 150 से 200 फोन आते हैं. सोमवार रात को कोरोना वायरस से संक्रमित एक मरीज को ले जा रहे एंबुलेंस के ड्राइवर ने ऑक्सीजन खत्म होने पर मदद के लिए ट्रस्ट से संपर्क किया था.