Covid 19 Alert for Delhi: आगामी सर्दी के मौसम में सांस की समस्याओं, बाहर से आने वाले मरीजों की बड़ी तादात और बड़े उत्सव समारोहों को ध्यान में रखते हुए, प्रतिदिन कोविड-19 के लगभग 15,000 नये मामलों के लिए दिल्ली को तैयार करने की आवश्यकता है. एनसीडीसी की रिपोर्ट में इसको लेकर आगाह किया गया है. Also Read - 84 दिन बाद भारत में 50,000 से कम नए मामले आए, ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं: स्वास्थ्य मंत्रालय

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल की अध्यक्षता में विशेषज्ञ समूह के मार्गदर्शन में राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट में दिल्ली सरकार से इसके लिए व्यवस्था करने की सिफारिश की गई है. Also Read - Lockdown News: यहां दो हफ्तों के लिए लगेगा 'संपूर्ण लॉकडाउन', जानें क्या खुलेगा क्या रहेगा बंद?

एनसीडीसी ने अपनी ‘कोविड-19 के नियंत्रण के लिए संशोधित रणनीति के संस्करण 3.0’ में यह भी बताया कि दिल्ली में समग्र कोविड-19 मामले में मृत्यु दर 1.9 प्रतिशत है, जो राष्ट्रीय औसत 1.5 प्रतिशत से अधिक है. Also Read - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम 6 बजे राष्ट्र को करेंगे संबोधित, इन मुद्दों पर कर सकते हैं बात

रिपोर्ट में कहा गया है कि जहां तक संभव हो मृत्यु दर को कम करना महामारी के प्रबंधन के प्रमुख उद्देश्यों में से एक होना चाहिए. आपको बता दें कि दिल्ली में कोरोना से अब तक तीन लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं. गुरुवार को राष्ट्रीय राजधानी में 2726 कोरोना के नए मामले सामने आए जबकि कुल 2643 लोग ठीक हुए.

दिल्ली में पिछले कुछ दिनों में कोरोना वायरस के मामलों में गिरावट देखने को मिली है और शहर के अस्पतालों में कोविड-19 के लिए 65 प्रतिशत से अधिक बिस्तर खाली हैं. दिल्ली कोरोना एप पर जारी आंकड़े में यह जानकारी दी गई है. हालांकि निजी अस्पतालों में सरकारी अस्पतालों की तुलना में बिस्तर ज्यादा भरे हुए है.

दिल्ली कोरोना एप के अनुसार दिल्ली के सबसे बड़े कोविड केन्द्र लोकनायक जयप्रकाश (एलएनजेपी) अस्पताल में दो हजार बिस्तरों में से 1545 बिस्तर खाली है जबकि जीटीबी अस्पताल में 1500 में से 1321 बिस्तर खाली है.