नई दिल्ली: कोरोना वायरस फैलने के खतरे को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा ‘जनता’ कर्फ्यू के आह्वान का समर्थन करते हुए कई परिवहन संघ ने रविवार को राष्ट्रीय राजधानी में ऑटो रिक्शा और टैक्सी नहीं चलाने का निर्णय लिया है. Also Read - महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, छत्तीसगढ़ सहित इन 10 राज्यों में तेजी से फैल रहा कोरोना; 80% से ज्यादा केस मिले, सैकड़ों की मौत

दिल्ली ऑटो रिक्शा संघ, दिल्ली प्रदेश टैक्सी संघ, दिल्ली ऑटो टैक्सी परिवहन कांग्रेस संघ और दिल्ली टैक्सी पर्यटक परिवहन संघ ने रविवार को सुबह सात बजे से रात दस बजे तक कर्फ्यू में भाग लेने का फैसला लिया है. Also Read - खून के थक्के जमने की दुर्लभ स्थिति कोविड-19 से ज्यादा, टीके से कम: ऑक्सफोर्ड का अध्ययन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कदम की सराहना करते हुए कहा कि इससे कोरोना वायरस से उपजी महामारी के खिलाफ लड़ाई में सहायता मिलेगी. Also Read - IPL 2021: दिल्ली कैपिटल्स ने किया चोटिल श्रेयस अय्यर, कोविड पॉजिटिव अक्षर पटेल के रिप्लेसमेंट का ऐलान

मोदी ने ट्वीट किया, “इस कदम से कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई को नई ताकत मिलेगी.” दिल्ली ऑटो रिक्शा संघ के महासचिव राजेंद्र सोनी ने कहा कि भारतीय मजदूर संघ से संबद्ध सभी संघ कर्फ्यू में हिस्सा लेंगे.

सोनी ने कहा, “हमने दिल्ली ऑटो रिक्शा संघ और दिल्ली प्रदेश टैक्सी संघ समेत अपने सभी सदस्यों से रविवार को अपने वाहन बाहर न निकालने की अपील की है.” उन्होंने कहा कि विषाणु के संक्रमण को फैलने से रोकना प्रत्येक नागरिक का कर्तव्य है और लोगों को इस बाबत सरकार के प्रयास में योगदान देना चाहिए.

दिल्ली टैक्सी पर्यटक परिवहन संघ के अध्यक्ष संजय सम्राट ने कहा कि उनका संघ कर्फ्यू का स्वागत करता है क्योंकि इससे विषाणु को फैलने से रोकने में सहायता मिलेगी. उन्होंने कहा कि कर्फ्यू को 31 मार्च तक बढ़ा देना चाहिए.

(इनपुट भाषा)