Coronavirus Cases In India Update: कोविड-19 के मामलों में बढ़ोतरी के बीच सरकार ने मंगलवार को कहा कि देश में प्रति दस लाख की आबादी पर कोरोना वायरस से संक्रमण और मृत्यु दर पूरी दुनिया में सबसे कम है. Also Read - रूस में कोरोना की वैक्सीन ‘Sputnik V’ बनकर तैयार, भारत सहित 20 देशों ने दिया 100 करोड़ डोज का ऑर्डर

भारत में कोविड-19 के 22,252 नए मामले सामने आने के बाद मंगलवार को देश में संक्रमण के मामले बढ़कर सात लाख 19 हजार 665 हो गए. महज पांच दिन में ही संक्रमण के मामले छह लाख से सात लाख हो गए हैं. वहीं इस महामारी से पिछले 24 घंटे में 467 लोगों की मौत के साथ जान गंवाने वालों की संख्या भी 20,160 हो गई है. केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी. Also Read - जन्माष्टमी के मद्देनजर पंजाब सरकार ने कोरोना वायरस कर्फ्यू में छूट दी

बहरहाल, पीटीआई के आंकड़ों के मुताबिक कोविड-19 से संक्रमण के मामले सात लाख 34 हजार 647 हैं जबकि मृतकों की संख्या 20,620 हो गई है. विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की तरफ से मुहैया कराए गए आंकड़ों के आधार पर यह तालिका तैयार की गई है. Also Read - Rahat Indori Death: कोरोना से बढ़ता है हार्ट अटैक का खतरा, मशहूर शायर के जाने की यही वजह तो नहीं!

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि प्रति दस लाख की आबादी पर भारत में ठीक होने वाले मरीज प्रति दस लाख की आबादी पर इलाज करा रहे मरीजों से ज्यादा हैं. इसने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कोरोना वायरस के मामलों की जल्दी पहचान करने और प्रभावी प्रबंधन करने का श्रेय दिया.

मंत्रालय ने बयान में कहा कि भारत में प्रति दस लाख पर ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 315.8 है जबकि देश में प्रति दस लाख की आबादी पर इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 186.3 है.

स्वीडन की स्वास्थ्य मंत्री के साथ ऑनलाइन वार्ता में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्द्धन ने कहा कि भरत के एहतियातन, सक्रिय और क्रमिक उपायों से कोविड-19 पर लगाम कसा जा सका है और अस्पतालों में किसी भी समय काफी संख्या में बिस्तर खाली हैं.

मंत्रालय के बयान के मुताबिक, स्वीडन की स्वास्थ्य और सामाजिक मंत्री लीना हालेनग्रेन के साथ वार्ता में हर्षवर्द्धन ने ये टिप्पणियां कीं. लीना ने स्वास्थ्य एवं दवा के क्षेत्र में सहयोग पर चर्चा के लिए हर्षवर्द्धन से वार्ता की.

कोविड-19 महामारी से निपटने में भारत ने जो सबक सीखा उसके बारे में हर्षवर्द्धन ने कहा, ‘‘भारत में ठीक होने की दर 61 फीसदी है और मृत्यु दर 2.78 फीसदी है, जबकि देश की आबादी एक अरब 35 करोड़ है.’’

मंत्रालय ने छह जुलाई को जारी ‘डब्ल्यूएचओ स्थिति रिपोर्ट-168’ का जिक्र करते हुए कहा कि भारत में कोविड-19 के मामले प्रति दस लाख की आबादी पर 505.37 है जबकि वैश्विक औसत 1453.25 है.

देश में संक्रमण के मामले एक लाख होने में 110 दिन लगे थे और केवल 49 दिन में ही ये सात लाख के पार पहुंच गए.

मंत्रालय ने बताया कि लगातार पांचवें दिन देश में 20,000 से अधिक नए मामले सामने आए हैं.

मंत्रालय द्वारा सुबह आठ बजे अद्यतन आंकड़ों के अनुसार देश में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 7,19,665 पर पहुंच गई है. वहीं पिछले 24 घंटे में 467 और लोगों की मौत से मृतकों का आंकड़ा 20,160 हो गया है.

देश में अभी तक 4,39,947 लोग ठीक हो चुके हैं और 2,59,557 लोगों का इलाज जारी है.

अधिकारी ने कहा, ‘‘ मरीजों के ठीक होने की दर अभी 61.13 प्रतिशत है.’’

कोविड-19 के कुल पुष्ट मामलों में विदेशी नागरिक भी शामिल हैं.

आईसीएमआर के मुताबिक छह जुलाई तक देश में 1,02,11,092 नमूनों की जांच की गई.

आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में जिन 467 लोगों की जान गई है, उनमें से सबसे अधिक 204 लोग महाराष्ट्र के हैं. इसके बाद तमिलनाडु के 61, दिल्ली के 48, कर्नाटक के 29, उत्तर प्रदेश के 24, पश्चिम बंगाल के 22, गुजरात के 17, तेलंगाना तथा हरियाणा के 11-11, मध्य प्रदेश के नौ, आंध्र प्रदेश के सात, जम्मू-कश्मीर के छह, राजस्थान तथा पंजाब के पांच-पांच, केरल तथा ओडिशा के दो-दो और अरुणाचल प्रदेश तथा झारखंड का एक-एक व्यक्ति है.

कोविड-19 से अभी तक 20,160 मरीजों की मौत के मामलों में महाराष्ट्र में सबसे अधिक 9,026 लोगों ने जान गंवाई है. इसके बाद दिल्ली में 3,115, गुजरात में 1,960, तमिलनाडु में 1,571, उत्तर प्रदेश में 809,, पश्चिम बंगाल में 779, मध्य प्रदेश में 617, राजस्थान में 461, कर्नाटक में 401 और तेलंगाना में 306 लोगों की मौत हुई.

हरियाणा में कोविड-19 के 276, आंध्र प्रदेश में 239, पंजाब में 169, जम्मू कश्मीर में 138, बिहार में 97, उत्तराखंड में 42, ओडिशा में 38 और केरल में 27 लोगों ने जान गंवाई.

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार महामारी से झारखंड में 20, छत्तीसगढ़ तथा असम में 14-14, पुडुचेरी में 12 , हिमाचल प्रदेश में 11, गोवा में सात, चंडीगढ़ में छह, अरुणाचल प्रदेश में दो और मेघालय, त्रिपुरा, लद्दाख में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई.

उसने बताया कि जान गंवाने वाले 70 प्रतिशत लोगों को पहले से ही कोई बीमारी थी.

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार महाराष्ट्र में संक्रमण के सबसे अधिक 2,11,987 मामले सामने आए हैं. इसके बाद तमिलनाडु में 1,14,978, दिल्ली में 1,00,823, गुजरात में 36,772, उत्तर प्रदेश में 28,636, तेलंगाना में 25,733 और कर्नाटक में 25,317 मामले सामने आए हैं.

पश्चिम बंगाल में 22,987, राजस्थान में 20,688, आंध्र प्रदेश में 20,019, हरियाणा में 17,504 और मध्य प्रदेश में 15,284 लोग संक्रमित पाए गए हैं.

असम में संक्रमण के मामले बढ़कर 12,160, बिहार में 12,125, ओडिशा में 9,526, जम्मू-कश्मीर में 8,675, हो गए. पंजाब में अब तक संक्रमण के 6,491 जबकि केरल में 5,622 मामले सामने आए हैं.

छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस संक्रमण के 3,305 ,उत्तराखंड में 3,161 , झारखंड में 2,847, गोवा में 1,813, त्रिपुरा में 1,680, मणिपुर में 1,390 , हिमाचल प्रदेश में 1,077 और लद्दाख में 1,005 मरीज हैं.

पुडुचेरी में संक्रमण के 802, नगालैंड में 625, चंडीगढ़ में 489 तथा दादरा नगर हवेली तथा दमन और दीव में 297 मामले सामने आए हैं.

अरुणाचल प्रदेश में 270, मिजोरम में 197, अंडमान-निकोबार द्वीप में 141, सिक्किम में 125 जबकि मेघालय में 80 लोग संक्रमित मिले हैं.

इस बीच भारत के दवा नियंत्रक ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के दवा नियंत्रकों से कहा है कि प्रवर्तन अधिकारियों को निर्देश दें कि वे एंटी वायरल इंजेक्शन रेमडेसिविर की कालाबाजारी और अधिकतम खुदरा मूल्य से अधिक कीमत पर बेचे जाने से रोकें और उन पर कड़ी नजर रखें.