नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रो के साथ टेलीफोन पर बातचीत की और कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में जानकारी साझा करने तथा उपचार एवं टीके पर शोध के लिये आपसी सहयोग पर सहमति व्यक्त की. Also Read - COVID 19 Cases In India: 1 दिन में 53 हजार से अधिक लोग हुए कोरोना संक्रमित, 1,422 लोगों की हुई मौत

प्रधानमंत्री कार्यालय के बयान के अनुसार, फ्रांस के राष्ट्रपति ने दृढ़ता के साथ प्रधानमंत्री के इस दृष्टिकोण से सहमति व्यक्त की कि कोविड-19 संकट आधुनिक इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ है और यह दुनिया को वैश्वीकरण की एक नई मानव-केंद्रित अवधारणा का अवसर प्रदान करता है. Also Read - Covid 19 Vaccine: 18 साल से अधिक की आयु वालों को मुफ्त में लगेगी कोरोना की वैक्सीन, क्या करें-क्या न करें, यहां जानें

प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति मैक्रो से बातचीत के दौरान कोविड-19 महामारी के कारण फ्रांस में हुए जानमान के नुकसान पर संवेदना प्रकट की और वर्तमान स्थिति में वैश्विक सहयोग और एकजुटता के महत्व को रेखांकित किया. Also Read - Unlock In UP: यूपी में आज से खुले सभी मॉल्स और रेस्टोरेंट, लेकिन नियमों का पालन करना है अनिवार्य, देखें नई गाइडलाइंस

बयान के अनुसार, दोनों नेताओं ने इस बात से सहमति व्यक्त की कि वायरस के प्रसार को रोकने के उपायों को लेकर दोनों देशों की विशेषज्ञ टीमें सक्रिय रूप से जानकारी साझा करेंगी और उपचार और टीकों पर शोध करेंगी.

इसमें कहा गया है कि दोनों नेताओं ने जलवायु परिवर्तन जैसी अन्य वैश्विक चिंताओं से ध्यान नहीं हटने की जरूरत बतायी क्योंकि ये मुद्दे मानवता को समग्र रूप से प्रभावित करते हैं. मोदी और मैक्रो ने वर्तमान संकट के दौरान अफ्रीका में कम विकसित देशों की जरूरतों पर विशेष ध्यान देने पर भी जोर दिया.

मैक्रो ने प्रधानमंत्री के इस सुझाव का स्वागत किया कि वर्तमान में कोरोना वायरस के खतरे से बचने के लिये घरों में रह रहे लोगों के लिये योग का अभ्यास मानसिक और शारीरिक कल्याण सुनिश्चित करता है.

इसमें कहा गया है कि दोनों नेताओं ने इस बात पर सहमति व्यक्त की कि भारत-फ्रांस गठजोड़ वर्तमान कठिन समय में मानव केंद्रित एकजुटता की भावना को आगे बढ़ायेगा.