नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए संवाद करेंगे. इस दौरान देश में जारी लॉकडाउन को 3 मई से आगे बढ़ाए जाने को लेकर फैसला हो सकता है. हालांकि मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मीटिंग के कुछ घंटे पहले ही रविवार को खबरें आईं कि पांच राज्य 3 मई से आगे लॉकडाउन का विस्तार करना चाहते हैं. Also Read - Coronavirus: धार्मिक स्‍थलों के लिए SOP जारी, घंटी, मूर्ति छूना है प्रतिबंधित, पढ़ें नियम

दिल्ली ने कुछ दिन पहले कहा था कि वह दो और सप्ताह तक लॉकडाउन का विस्तार कर सकती है, इसके बाद पांच और राज्यों ने भी इसी तरह के संकेत दिए हैं. राज्यों ने कहा है कि वे विस्तार के लिए तैयार हैं लेकिन यह स्थिति पर निर्भर करता है. ओडिशा, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल और पंजाब ने कहा है कि वे 3 मई से आगे प्रमुख हॉटस्पॉट में लॉकडाउन का विस्तार करने के लिए तैयार हैं. Also Read - Coronavirus: केंद्र सरकार ने शॉपिंग मॉल के लिए जारी की नई गाइडलाइंस, जानें नियम

दूसरी ओर, गुजरात, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और कर्नाटक ने कहा कि गृह मंत्रालय जो भी कहेगा वे उसका पालन करेंगे. हालांकि, असम, केरल और बिहार ने कहा कि वे सोमवार को पीएम मोदी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के बाद ही लॉकडाउन एक्सटेंशन पर अंतिम फैसला लेंगे. पुष्टि करते हुए, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पहले ही कहा था कि राष्ट्रीय राजधानी में लॉकडाउन जारी रहेगी और 27 अप्रैल को विशेषज्ञों की समीक्षा बैठक से पहले निषेधाज्ञा में कोई ढील नहीं दी जाएगी. Also Read - भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच कई रक्षा समझौते, दोनों देश एक-दूसरे के सैन्य अड्डे करेंगे प्रयोग

जानकारी देते हुए, महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने भी कहा कि राज्य में 3 मई तक कोई लॉकडाउन नियम नहीं बदले जाएंगे. उन्होंने कहा कि सोमवार को प्रधानमंत्री के साथ एक वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के बाद ही राज्य को अधिक स्पष्टता मिलेगी.

बता दें कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में किस तरह से आगे बढ़ना है इस बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज (सोमवार) सुबह वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ संवाद करेंगे. यह संवाद इन संकेतों के बीच होगा कि यह लागू लॉकडाउन को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने केंद्रित हो सकता है. देश में कोविड-19 के प्रसार के बाद मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री मोदी की यह तीसरी वीडियो कॉन्फ्रेंस होगी.

केंद्र और राज्य सरकारें आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने और लोगों को राहत प्रदान करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों को क्रमिक छूट दे रही हैं. हालांकि कुछ राज्य लॉकडाउन को तीन मई के बाद भी जारी रखने के इच्छुक हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि कोरोना वायरस के मामले नियंत्रण में रहें. प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को अपने मासिक ‘मन की बात’ रेडियो संबोधन में कहा कि देश एक युद्ध में है. उन्होंने इस पर जोर दिया कि लोगों को सावधान रहने और सावधानी बरतने की जरूरत है.

गौरतलब है कि केंद्र ने अब लॉकडाउन के दौरान शहरी क्षेत्रों में आवासीय परिसरों समेत मुहल्लों की दुकानों को खोलने की अनुमति दी है. हालांकि बाजारों में स्थित दुकानें तीन मई तक बंद रहेंगी. ग्रामीण क्षेत्रों में, शॉपिंग मॉल की दुकानों को छोड़कर सभी दुकानों को खोलने की अनुमति है.

11 अप्रैल को पिछले संवाद में कई मुख्यमंत्रियों ने 21-दिवसीय लॉकडाउन को दो सप्ताह तक बढ़ाने की सिफारिश की थी, जो पहले 14 अप्रैल को समाप्त होने वाला था. प्रधानमंत्री ने 14 अप्रैल को घोषणा की थी कि लॉकडाउन को तीन मई तक बढ़ाया जा रहा है. 24 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा से पहले प्रधानमंत्री ने गत 20 मार्च को मुख्यमंत्रियों के साथ बातचीत की थी. उस दौरान मोदी ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के तरीकों पर चर्चा की थी.